पाकिस्तान में हिन्दुओं के लिए श्मशान भी नसीब नहीं, अदालत पहुंचा मामला

Webdunia
बुधवार, 12 सितम्बर 2018 (14:51 IST)
लाहौर। लाहौर उच्च न्यायालय ने यहां हिन्दुओं के अंतिम संस्कार के लिए श्मशान भूमि नहीं होने से संबंधित एक याचिका को विचारार्थ स्वीकार किया है।
 
यह याचिका अधिवक्ता इश्तियाक चौधरी ने दायर की है। न्यायाधीश अली अकबर कुरैशी ने मंगलवार को याचिका स्वीकार करते हुए लाहौर विकास प्राधिकरण के महानिदशेक, स्थानीय सरकार के सचिव और लाहौर के उपायुक्त को इस मामले में गुरुवार तक जवाब दाखिल करने का आदेश दिया।
 
डान न्यूज के अनुसार याचिकाकर्ता ने याचिका में कहा है कि 1973 का संविधान सभी नागरिकों के अधिकारों को सुरक्षा प्रदान करता है। याचिका में कहा गया है कि लाहौर में हिन्दुओं के अंतिम संस्कार के लिए कोई श्मशान भूमि नहीं है। इसकी वजह से इस समुदाय को बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।
 
याचिकाकर्ता ने न्यायालय से अनुरोध किया है कि वह लाहौर में हिन्दुओं के अंतिम संस्कार के लिए श्मशान भूमि मुहैया कराने का आदेश दे। (वार्ता)
 

जानिए नारदजी के हवा में उड़ने की शक्ति का राज! (वीडियो)

विधायकों ने लौटाए सुरक्षागार्ड, जताई हत्या की आशंका

इबोला वायरस ने 200 से ज्यादा लोगों को मौत की नींद सुलाया

बाल दिवस विशेष : गुम हो रहा है बचपन, आखिर कौन है जिम्मेदार?

शिक्षक दिवस पर प्रेरक कहानी : शब्दों का प्रभाव

सम्बंधित जानकारी

Intelligence Bureau में नौकरी करना चाहते हैं तो जल्दी करें, 1000 से ज्यादा पद

स्मार्ट फोन की बैटरी बचाती है यह तरकीब, गूगल ने बताई

नवजात को दूध पिला रही थी मां, बंदर ने छीनकर मार डाला...

अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे पंडित जवाहरलाल नेहरू...

रहमान ने बॉयोग्राफी में खोले राज, 25 साल की उम्र में आते थे खुदकुशी के ख्याल

कश्मीर में ताजा बर्फबारी के बाद 7 जिलों में हिमस्खलन की चेतावनी

बड़ी खबर, रिजर्व बैंक 15 नवंबर को आर्थिक प्रणाली में 12,000 करोड़ की नकदी डालेगा

यौन उत्पीड़न के आरोप झेल रहे बीसीसीआई CEO राहुल जौहरी ने दी गवाही

मुम्बई में 21 मंजिला इमारत में आग लगने से 2 लोगों की मौत, 3 घायल

भारत निर्वाचन आयोग ने विधानसभा चुनाव की तैयारियों पर जताया संतोष

अगला लेख