पाकिस्तान में हिन्दुओं के लिए श्मशान भी नसीब नहीं, अदालत पहुंचा मामला

Webdunia
बुधवार, 12 सितम्बर 2018 (14:51 IST)
लाहौर। लाहौर उच्च न्यायालय ने यहां हिन्दुओं के अंतिम संस्कार के लिए श्मशान भूमि नहीं होने से संबंधित एक याचिका को विचारार्थ स्वीकार किया है।
 
यह याचिका अधिवक्ता इश्तियाक चौधरी ने दायर की है। न्यायाधीश अली अकबर कुरैशी ने मंगलवार को याचिका स्वीकार करते हुए लाहौर विकास प्राधिकरण के महानिदशेक, स्थानीय सरकार के सचिव और लाहौर के उपायुक्त को इस मामले में गुरुवार तक जवाब दाखिल करने का आदेश दिया।
 
डान न्यूज के अनुसार याचिकाकर्ता ने याचिका में कहा है कि 1973 का संविधान सभी नागरिकों के अधिकारों को सुरक्षा प्रदान करता है। याचिका में कहा गया है कि लाहौर में हिन्दुओं के अंतिम संस्कार के लिए कोई श्मशान भूमि नहीं है। इसकी वजह से इस समुदाय को बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।
 
याचिकाकर्ता ने न्यायालय से अनुरोध किया है कि वह लाहौर में हिन्दुओं के अंतिम संस्कार के लिए श्मशान भूमि मुहैया कराने का आदेश दे। (वार्ता)
 

क्या मक्का-मदीना में शिवलिंग की पूजा की जाती है? जानिए सच

बढ़ती उम्र संबंधी बीमारियों से बचना है तो करें उपवास

सुप्रीम कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला, भारत में जारी रहेगी मौत की सजा...

बीवी को पता चल गया तो : हंसी नहीं रोक पाओगे इस चुटकुले को पढ़कर

हंसी-ठिठोली के संग हास्य कवि की कामना

सम्बंधित जानकारी

शशि थरूर का मोदी पर बड़ा हमला, पीएम की वजह से नहीं जा सके पद्‍मनाभस्वामी मंदिर...

क्या है कर्नाटक संकट, क्या होगा कांग्रेस समर्थित कुमारस्वामी सरकार का.. 2 मिनट में जानें...

अमेरिका बंद : तमाम जोड़तोड़ के बाद भी नहीं निकल रहा कोई नतीजा

शत्रुघ्न सिन्हा का पीएम मोदी पर हमला, टीवी एक्ट्रेस को HRD मंत्री बनाना कहां तक उचित है?

सावधान, जमीन, हवा और समुद्र में हमला करने वाली सेना बना रहा है चीन, अमेरिकी अधिकारी ने चेताया

फिल्मी स्टाइल में बिल्डर की गोली मारकर हत्या

राहुल गांधी व कुमारस्वामी के हस्तक्षेप से कर्नाटक में सियासी संकट टला...

बढ़ती उम्र संबंधी बीमारियों से बचना है तो करें उपवास

संजय जैन व केएम नटराज एएसजी नियुक्त

मिशेल की संपत्तियों का पता लगाने की कोशिश कर रही हैं एजेंसियां

अगला लेख