क्या गोरखपुर, फूलपुर और कैराना की तरह 2019 में भी विपक्ष भाजपा के खिलाफ एकजुट होकर चुनाव लड़ पाएगा?