महाराष्ट्र के मराठवाड़ा में इस वर्ष 618 किसानों ने की आत्महत्या

Webdunia
बुधवार, 12 सितम्बर 2018 (16:49 IST)
औरंगाबाद (महाराष्ट्र)। महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र में इस वर्ष एक जनवरी से नौ सितंबर तक फसल की बर्बादी और कर्ज से परेशान 618 किसानों ने आत्महत्या कर ली।


मंडलायुक्त के कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, सूखा प्रभावित बीड जिले में सबसे अधिक 125 किसानों ने आत्महत्या की। सबसे कम हिंगोली जिले में 42 किसानों ने खुदकुशी की है। उस्मानाबाद जिले में 100, औरंगाबाद में 87, परभणी में 85 तथा नांदेड और जालना जिले में 62-62 किसानों ने आत्महत्या की।

आत्महत्या के पीछे कर्ज, बारिश की कमी और फसल के खराब होने के साथ ही अन्य कारण बताए गए हैं। कुल 618 आत्महत्या के मामलों में 368 को सरकारी सहायता के योग्य पाया गया है, जबकि 166 मामलों को जांच के बाद खारिज कर दिया गया। 84 मामले अभी जांच के लिए लंबित हैं।

मराठवाड़ा में बारिश की कमी के कारण सूखे जैसी स्थिति है। इस महीने के अंत तक मानसून लगभग समाप्त हो जाएगा और वहां अब तक 39 प्रतिशत बारिश कम हुई है। क्षेत्र की कई सिंचाई परियोजनाओं में औसतन 34 प्रतिशत जल बचा है। (वार्ता)

OMG! ट्रंप की तरह दिखता है यह कुत्ता, जीता पुरस्कार

नवरात्र में चमका सोना, चांदी की चमक लौटी

भाजपा में वंशवाद के नए चेहरे, नेताओं के 30 बेटे और बेटियों को मिला टिकट

बाप-बेटे दोनों के साथ... ये अभिनेत्रियां लड़ा चुकी हैं इश्क

16 नवंबर 2018 का राशिफल और उपाय...

सम्बंधित जानकारी

Intelligence Bureau में नौकरी करना चाहते हैं तो जल्दी करें, 1000 से ज्यादा पद

स्मार्ट फोन की बैटरी बचाती है यह तरकीब, गूगल ने बताई

नवजात को दूध पिला रही थी मां, बंदर ने छीनकर मार डाला...

अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे पंडित जवाहरलाल नेहरू...

रहमान ने बॉयोग्राफी में खोले राज, 25 साल की उम्र में आते थे खुदकुशी के ख्याल

#Metoo : बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जौहरी ने 10 घंटे तक दर्ज कराया बयान

मासूम बच्ची के बलात्कारी हत्यारे की फांसी की सजा बरकरार

मुसीबत में फंस सकते हैं बल्क में साड़ी, कपड़े खरीदने और बेचने वाले

भारत के लिए वृहद आर्थिक परिदृश्य बड़ा जोखिमभरा

BMW ने M2 कॉम्पिटिशन का नया मॉडल उतारा, कीमत जानकर हो जाएंगे हैरान...

अगला लेख