महाराष्ट्र के मराठवाड़ा में इस वर्ष 618 किसानों ने की आत्महत्या

Webdunia
बुधवार, 12 सितम्बर 2018 (16:49 IST)
औरंगाबाद (महाराष्ट्र)। महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र में इस वर्ष एक जनवरी से नौ सितंबर तक फसल की बर्बादी और कर्ज से परेशान 618 किसानों ने आत्महत्या कर ली।


मंडलायुक्त के कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, सूखा प्रभावित बीड जिले में सबसे अधिक 125 किसानों ने आत्महत्या की। सबसे कम हिंगोली जिले में 42 किसानों ने खुदकुशी की है। उस्मानाबाद जिले में 100, औरंगाबाद में 87, परभणी में 85 तथा नांदेड और जालना जिले में 62-62 किसानों ने आत्महत्या की।

आत्महत्या के पीछे कर्ज, बारिश की कमी और फसल के खराब होने के साथ ही अन्य कारण बताए गए हैं। कुल 618 आत्महत्या के मामलों में 368 को सरकारी सहायता के योग्य पाया गया है, जबकि 166 मामलों को जांच के बाद खारिज कर दिया गया। 84 मामले अभी जांच के लिए लंबित हैं।

मराठवाड़ा में बारिश की कमी के कारण सूखे जैसी स्थिति है। इस महीने के अंत तक मानसून लगभग समाप्त हो जाएगा और वहां अब तक 39 प्रतिशत बारिश कम हुई है। क्षेत्र की कई सिंचाई परियोजनाओं में औसतन 34 प्रतिशत जल बचा है। (वार्ता)

यूसी ब्राउजर का भारतीय बाजार में नया वर्जन लांच

तो क्या चांद में नजर आए थे शिरडी के साईं बाबा...

क्या ऑटो चलाकर परिवार का पेट पालते हैं ‘PM मोदी के भाई’.. जानिए सच..

श्री हनुमान चालीसा

समंदर में बिकिनी पहन गजब ढाया किम करदाशियां ने, देखिए हॉट फोटो

सम्बंधित जानकारी

समंदर के जांबाज नेवी कमांडर अभिषेक टॉमी को बचाया गया

किस करते वक्त इसलिए पति की जीभ काट दी

चौंकाने वाली रिपोर्ट, शराब पीने से हर साल होती है 30 लाख लोगों की मौत

अब जियो टीवी पर देख सकेंगे क्रिकेट मैच

खुशखबर, नौकरी जाने पर मिलेगा पैसा, मोदी सरकार की नई योजना

बंगाल में भाजपा का बंद, प्रदर्शनकारियों ने रोकी ट्रेनें, हेलमेट पहनकर बस चला रहे ड्राइवर

किसकी होगी जयललिता की संपत्ति, कोर्ट सुनाएगा फैसला, जानिए कितनी है संपत्ति...

भाजपा का कार्यकर्ता महाकुंभ‘वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड’में शामिल

सुप्रीम कोर्ट में आज फैसलों का दिन, आधार की वैधता सहित इन बड़े मामलों पर आएंगे फैसले

सुप्रीम कोर्ट आज सुनाएगा आधार पर अहम फैसला

अगला लेख