मध्य प्रदेश में अब तक 7 जिलों में सामान्य से अधिक वर्षा

Webdunia
बुधवार, 12 सितम्बर 2018 (16:36 IST)
भोपाल। मध्य प्रदेश में इस वर्ष मानसून में एक जून से 11 सितंबर तक 7 जिलों में सामान्य से 20 फीसदी अधिक तथा 36 जिलों में सामान्य और 8 जिलों में सामान्य से कम वर्षा दर्ज की गई है। सर्वाधिक 1339.7 मिलीमीटर वर्षा उमरिया में और सबसे कम 473.8 मिलीमीटर अलीराजपुर में दर्ज की गई है।


आधिकारिक तौर पर बुधवार को दी गई जानकारी के अनुसार, प्रदेश में सामान्य से अधिक वर्षा वाले सात जिले टीकमगढ़, भिंड, दतिया, शिवपुरी, नीमच, सिंगरौली और उमरिया हैं, जबकि 36 जिलों मुरैना, अशोकनगर, शहडोल, खंडवा, बुरहानपुर, जबलपुर, सीधी, श्योपुर, ग्वालियर, बड़वानी, रतलाम, मंदसौर, कटनी, झाबुआ, रायसेन, रीवा, दमोह, इंदौर, छतरपुर, नरसिंहपुर, खरगोन, गुना, विदिशा, मंडला, शाजापुर, सीहोर, उज्जैन, आगर-मालवा, होशंगाबाद, राजगढ़, पन्ना, भोपाल, सागर, सतना, डिंडोरी और सिवनी में सामान्य वर्षा रिकॉर्ड की गई है।

वहीं प्रदेश के आठ जिलों हरदा, बालाघाट, धार, छ़िंदवाड़ा, अनूपपुर, देवास, अलीराजपुर और बैतूल में सामान्य से कम वर्षा दर्ज की गई है। (भाषा)

जानिए नारदजी के हवा में उड़ने की शक्ति का राज! (वीडियो)

पं. जवाहरलाल नेहरू का भाषण : नियति से साक्षात्कार

ब्रिटेन में भारतीय मूल की गर्भवती महिला की तीर लगने से मौत, बच्चे को बचाया

बाल दिवस विशेष : गुम हो रहा है बचपन, आखिर कौन है जिम्मेदार?

शिक्षक दिवस पर प्रेरक कहानी : शब्दों का प्रभाव

सम्बंधित जानकारी

Intelligence Bureau में नौकरी करना चाहते हैं तो जल्दी करें, 1000 से ज्यादा पद

स्मार्ट फोन की बैटरी बचाती है यह तरकीब, गूगल ने बताई

नवजात को दूध पिला रही थी मां, बंदर ने छीनकर मार डाला...

अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे पंडित जवाहरलाल नेहरू...

रहमान ने बॉयोग्राफी में खोले राज, 25 साल की उम्र में आते थे खुदकुशी के ख्याल

फिनटेक में मोदी बोले, भारत में वित्तीय क्रांति, 130 करोड़ लोगों की जिंदगी बदल रही है

ब्रिटेन में भारतीय मूल की गर्भवती महिला की तीर लगने से मौत, बच्चे को बचाया

चुनाव सामग्री में क्यों हो रहा प्लॉस्टिक का उपयोग, हाईकोर्ट ने नोटिस जारी कर मांगा जवाब

जब तक हम जिंदा हैं, संघ पर प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता : उमा भारती

राफेल सौदा मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज अहम सुनवाई

अगला लेख