कैसे बनाएं घर पर शाही मोदक, यहां पढ़ें आसान वि‍धि....

Webdunia
किसी भी गणेश पूजा के अवसर पर श्री गणेश को मोदक का भोग अवश्य लगाना चाहिए, क्योंकि मोदक गणेश जी का प्रिय व्यंजन है। इससे गणेशजी अपने भक्तों पर प्रसन्न होकर उनकी हर मनोकामना पूर्ण करते हैं। खास करके उन्हें प्रसाद में 21 मोदक का नैवेद्य दिखाने की मान्यता है। आइए जानें मोदक बनाने की सरल व्यंजन विधि। 
 
सामग्री : 
150 ग्राम नारियल बूरा, 250 ग्राम मैदा, 250 ग्राम शक्कर का बूरा, 1 चम्मच इलायची पावडर, 1 छोटा कप अथवा कटोरी काजू-बादाम की कतरन, 1 छोटा आधा कप किशमिश, मोयन के लिए तेल अथवा घी, तलने के लिए घी अलग से।
 
विधि : 
सबसे पहले मैदे को छान कर उसमें मोयन डालकर कड़ा आटा गूंथ लें। तत्पश्चात खोपरा और शक्कर का बूरा, इलायची, काजू-बादाम की कतरन, किशमिश आदि सारी सामग्री मिक्स करके अलग बर्तन में रख लें।
 
फिर तैयार मैदे की 21 लोइयां बना लें। हर लोई को हल्के हाथ से थोड़ा-सा बेलकर उसमें आवश्यकतानुसार भरावन सामग्री भरें और मोदक का आकार देते हुए उसका मुंह बंद कर दें। इस तरह सभी मोदक बना कर रख लें। 
 
अब कड़ाही में घी गर्म करके कम आंच पर सभी मोदक तल लीजिए। अब गणेशजी को प्रिय 21 मोदकों को प्रसाद में चढ़ाएं। 

ALSO READ: गणेश जी को प्रसन्न करना है तो बनाएं नारियल-सूजी के रसीले मोदक, पढ़ें सरल रेसिपी

बार-बार पेशाब आने के 5 कारण और उपाय

कहानी : सूझबूझ से सुलझा लें समस्या...

लाल बहादुर शास्त्री पर हिन्दी निबंध

रावण की पत्नी मंदोदरी ने क्यों किया वि‍भीषण से विवाह?

रजनीकांत के घर बजने वाली है शहनाई, गुपचुप कर ली सगाई

सम्बंधित जानकारी

डायबिटीज रोगियों के लिए बेहद जरूरी हैं ये 20 टिप्स

डायबिटीज के लिए 10 असरकारी घरेलू नुस्खे...

सावधान, सर्दी में संभल कर करें परफ्यूम का इस्तेमाल, ये रहा कारण

सर्द मौसम में रखेंगे ख्याल, योगासन और प्राणायाम, ये रहे 8 बेहतरीन टिप्स

सर्दियों में ये 5 घरेलू चीजें, त्वचा को प्राकृतिक नमी देंगी और रूखेपन से बचाएंगी

च्यवन ऋषि फिर से हुए थे जवान इस दिन, पढ़ें आंवला नवमी की 10 खास बातें

प्लास्टिक के बर्तनों में लगे दाग-धब्बों से परेशान हैं? तो आजमाएं ये कारगर उपाय

17 नवंबर को कौन से अत्यंत शुभ योग में मनेगी आंवला नवमी, करेगी हर इच्छा पूरी

कई युगों से पवित्र है अक्षय नवमी की शुभ तिथि, जानिए कितने रहस्य छुपे हैं आंवले में

देवउठनी एकादशी पर इस विशेष आरती से होते हैं भगवान इतने प्रसन्न कि हर एकादशी का पुण्य दे देते हैं...

अगला लेख