श्री हरसिद्धि देवी : जहां 11 बार शीश काट कर चढ़ाए थे राजा विक्रम ने

गढ़ की कालिका देवी : कालिदास की आराध्या

उज्जैन में होती है कई सुंदर धार्मिक यात्राएं

मंगलनाथ : जहां उत्पत्ति हुई है मंगल की

काल भैरव प्रतिमा मदिरापान करती हैं लेकिन कैसे यह कोई नहीं जानता

रहस्यमयी है राजा भर्तृहरि की गुफा

उज्जयिनी की प्राचीन वेधशाला : सितारों के आगे जहां और भी है

कालियादह महल : वैभवपूर्ण इतिहास

चौबीस खंबा माता : महाकाल-वन का प्रवेश द्वार

सिंहस्थ : आकर्षण का केन्द्र रहेंगे उज्जैन के प्रमुख दर्शनीय स्थल

LOADING