पर्यावरण का संदेश देती है हरतालिका तीज, 16 तरह की पत्तियां चढ़ती हैं उमा महेश्वर को

पं. सोमेश्वर जोशी
हरतालिका तीज का व्रत करने से विवाहित महिलाओं को अखंड सौभाग्य प्राप्त होता है और कुंआरी लड़कियों को मनभावन पति मिलता है। देवी पार्वती ने स्वयं इस व्रत को कर भगवान शिव को प्राप्त किया था।

ऐसी महिमा वाले इस परम पवित्र तीज को हर विवाहित तथा अविवाहित स्त्री को करना चाहिए। इस पर्व को पर्यावरण से जोड़कर भी देखा जाता है, क्योंकि इस दिन महिलाएं सावन के बाद आई नई 16 तरह की पत्तियों को शिवजी को चढ़ाकर अपने घर में हर प्रकार की वृद्धि का वर मांगती हैं। 

 
कौन सी पत्तियां चढ़ाएं 
 
बिल्वपत्र, 
तुलसी, 
जातीपत्र, 
सेवंतिका, 
बांस, 
देवदार पत्र, 
चंपा, 
कनेर, 
अगस्त्य, 
भृंगराज, 
धतूरा, 
आम के पत्ते, 
अशोक के पत्ते,
पान के पत्ते
केले के पत्ते
शमी के पत्ते
 
इस प्रकार 16 प्रकार की पत्तियां से षोडश उपचार पूजा करनी चाहिए। 
 
क्या करें 
 
निराहार रहकर व्रत करें।
रात्रि जागरण कर भजन करें।
बालू के शिवलिंग की पूजा करें।
सखियों सहित शंकर-पार्वती की पूजा रात्रि में करें।
पत्ते उलटे चढ़ाना चाहिए तथा फूल व फल सीधे चढ़ाना चाहिए।
हरतालिका तीज की कथा गाना अथवा श्रवण करें। 



ALSO READ: हरतालिका तीज 12 सितंबर को, क्या आपने एकत्र कर ली यह पूजा सामग्री, पढ़ें पूजा विधि

ALSO READ: हरतालिका तीज व्रत 12 सितंबर को, पढ़ें पौराणिक और प्रामाणिक कथा

किस वार को जन्मे हैं आप? जानिए वार अनुसार अपना स्वभाव...

श्री हनुमान चालीसा

क्यों किया जाता है श्री गणेश का विसर्जन....?

बार-बार पेशाब आने के 5 कारण और उपाय

टीम इंडिया ने देश को दिया गणेश विसर्जन का तोहफा, पाकिस्तान को 9 विकेट से रौंदा

सम्बंधित जानकारी

क्या आपको भी होता है गुरुवार को तनाव? जानें ज्योतिष अनुसार कारण

ईश्वर एक, नाम अनेक

क्या आप जानते हैं श्री गणेश को यह पत्तियां चढ़ती है विशेष मंत्र से, पढ़ें 20 मंत्र और 20 पत्तियां

ऐसे हैं यमलोक के यमराज

भगवान श्रीहरि विष्णु के दशावतार की पौराणिक एवं प्रामाणिक कथाएं

क्यों नहीं होते 16 दिन शुभ कार्य? श्राद्ध में कौए-श्वान और गाय का महत्व

श्राद्ध के दिन करें पितरों के लिए यह प्रार्थना, हर तिथि है खास

कौन कर सकता है श्राद्ध? विशेष जानकारी...

23 सितंबर 2018 का राशिफल और उपाय...

23 सितंबर 2018 : आपका जन्मदिन

अगला लेख