हरतालिका तीज 12 सितंबर को, हर सुहागन राशि अनुसार करें पूजन

पं. सुरेन्द्र बिल्लौरे
माता पार्वतीजी ने भगवान शिवजी को अपना पति मन ही मन मान लिया था। उनके पिता हिमालय उनका विवाह भगवान विष्णु से करना चाहते थे, परन्तु माता को यह पसंद नहीं था। अत: माता ने अपनी सखी के साथ घोर वन में जाकर तप किया, जिस दिन यह व्रत पूर्ण हुआ उस दिन भाद्र शुक्लपक्ष की तीज तिथि थी व हस्त नक्षत्र था, शिवजी ने प्रसन्न होकर माता को वरदान दिया व अपनी अर्धांगिनी बनाया।
 
सुहागन महिलाएं अपने पति की रक्षा व लंबी उम्र के लिए यह व्रत करती हैं, बालिकाएं भी इच्छित वर के लिए यह व्रत करती हैं। राशि अनुसार शिव व माता पार्वती का पूजन करने से शुभ फल की शीघ्र प्राप्ति होती है।
 
मेष- माताजी को लाल रंग का वस्त्र चढ़ाएं व ॐ नमस्ते रुद्राय नम: का जाप करें।

वृषभ- माताजी को चुनरी चढ़ाएं व ॐ शोमाय नम: का जाप करें।

मिथुन- माताजी को हरे पत्ते व मेहंदी चढ़ाएं साथ ही ॐ सामप्रियाय नम: का जाप करें।

कर्क- माताजी को चांदी की बिछिया चढ़ाएं व ॐ सिद्धैश्वर्यै नम: का जाप करें।

सिंह- माताजी को गुलाबी चुनरी चढ़ाएं व ॐ रुद्राय नम: का जाप करें।

कन्या- माताजी को हरे वस्त्र चढ़ाएं व ॐ शंभवे नम: का जाप करें।

तुला- माताजी को पंचधातु का कड़ा चढ़ाएं व ॐ त्रिशूलाय नम: का जाप करें।

वृश्चिक- माताजी को सिंदूरी वस्त्र चढ़ाएं व ॐ महेश्वराय नम: का जाप करें।

धनु- माताजी को पीला वस्त्र चढ़ाएं व ॐ पार्वती प्रियाय नम: का जाप करें।

मकर- माताजी को मोती चढ़ाएं व ॐ पशुपतये नम: का जाप करें।

कुंभ- माताजी को लाल चुनरी चढ़ाएं व ॐ अंगारेश्वराय नम: का जाप करें।

मीन- माताजी को पीला फूल चढ़ाएं व ॐ शिवाय नम: का जाप करें।

श्री हनुमान चालीसा

चार वेद, जानिए किस वेद में क्या है...

किसने और क्यों श्रीकृष्ण को दिया था सुदर्शन चक्र, जानिए रहस्य...

बुरी आदत से छुटकारा पाने और वजन कम करने कपिल शर्मा पहुंचे आयुर्वेदिक आश्रम

भारती सिंह और उनके पति हर्ष अस्पताल में भर्ती

सम्बंधित जानकारी

यमराज की मृत्यु का रहस्य जानकर चौंक जाएंगे आप

कौन हैं हमारे दिव्य पितर, जानिए रहस्य

शरीर छोड़ने के बाद आत्मा कहां पहुंच जाती है, जानिए रहस्य

नियम से करेंगे ये 12 काम, तो आप बन सकते हैं धनवान...

अपने ऑफिस को बनाएं शुभ और सकारात्मक, जानिए ज्योतिष के उपाय ...

कैसे मिलता है पितरों को भोजन, साथ में जानिए श्राद्ध करने से मिलते हैं कौन से 6 लाभ

क्या है श्राद्ध का अर्थ, परिचय, तिथियां और विधि

क्षमावाणी विशेष : आत्मशुद्धि, मैत्री और क्षमा भाव का पावन पर्व

जैन धर्म के साथ-साथ अन्य कई धर्मों में भी है क्षमा का महत्व

24 सितंबर 2018 का राशिफल और उपाय...

अगला लेख