शिवसेना ने मोदी को निशाना बनाने संबंधी नक्सलियों के पत्र को हास्यास्पद बताया

सोमवार, 11 जून 2018 (19:42 IST)
मुंबई। शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को निशाना बनाने के माओवादियों के षड्यंत्र को सोमवार को हास्यास्पद करार दिया और कहा कि यह षड्यंत्र तर्कसंगत प्रतीत नहीं होता और किसी डरावनी फिल्म की कहानी लगता है। शिवसेना ने तंज कसते हुए कहा कि हाईप्रोफाइल नेताओं को व्यापक सुरक्षा कवर मुहैया कराई जानी चाहिए भले ही लाखों लोग नक्सली हमले में क्यों नहीं मारे जा रहे हों?
 
 
नक्सलियों द्वारा प्रधानमंत्री और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस को कथित खतरे के बारे में पार्टी ने कहा कि कुछ लोग कहते हैं कि भाजपा का एक धड़ा मानता है कि मोदी और फड़णवीस कांटा बने हुए हैं और उनका खात्मा करने के लिए उन्होंने नक्सलियों को सुपारी दी है। बहरहाल, इस तरह के बयानों को महत्व नहीं दिया जाना चाहिए। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की सुरक्षा पर राजनीति नहीं होनी चाहिए।
 
शिवसेना ने पार्टी के मुखपत्र 'सामना' में कहा कि उन्हें सुरक्षा दी जानी चाहिए। यह ठीक है कि लाखों लोग मर जाएं (नक्सली हमले में) लेकिन उन्हें जिंदा रहना चाहिए। इसने कहा कि मोदी और फड़णवीस की हत्या से जुड़ा एक पत्र सामने आया है लेकिन यह निंदनीय है कि इस मुद्दे का इस्तेमाल राजनीतिक उद्देश्य के लिए किया जा रहा है।
 
शिवसेना ने दावा किया कि मोदी की सुरक्षा मोसाद (इसराइल की खुफिसा एजेंसी) जैसी मजबूत है और किसी के लिए भी इसे भेदना लगभग असंभव है। इसने आरोप लगाए कि इसी तरह फड़णवीस ने राज्य सचिवालय को किले में तब्दील कर दिया है, जहां आम आदमी की आवाजाही कठिन हो गई है।
 
माओवादियों के कथित पत्र को उद्धृत करते हुए शिवसेना ने कहा कि मोदी 15 राज्यों में सरकार बनाने में सफल रहे हैं। अगर यह जारी रहता है तो संगठन को खतरा पैदा हो जाएगा और इसलिए मोदी को खत्म कर दिया जाना चाहिए। इसने कहा कि इन सबका खुलासा पुलिस ने किया है, जो हास्यास्पद है। मराठी भाषा में प्रकाशित मुखपत्र में कहा गया है कि यह षड्यंत्र तर्कसंगत नहीं लगता है।
 
पुणे जिले के भीमा-कोरेगांव जातीय हिंसा की जांच कर रही पुलिस के मुताबिक एक गिरफ्तार व्यक्ति से जब्त पत्र में लिखा गया है कि नक्सली राजीव गांधी जैसी घटना के बारे में सोच रहे हैं और इसमें कहा गया है कि मोदी को रोड शो के दौरान निशाना बनाया जाना चाहिए। राकांपा प्रमुख शरद पवार ने रविवार को कहा था कि भाजपा सहानुभूति हासिल करने के लिए धमकीभरा खत कार्ड खेल रही है। बहरहाल, इस टिप्पणी के लिए पवार की आलोचना करते हुए फड़णवीस ने कहा कि राज्यसभा सदस्य से इतना नीचे गिरने की उम्मीद नहीं थी। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें-निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING