शांति की कोशिशों के बीच सीमा पर गोलियों की बरसात

सुरेश एस डुग्गर

मंगलवार, 21 अगस्त 2018 (20:54 IST)
श्रीनगर। पाक सेना पर विश्वास करना दुनिया में सबसे बड़ा बेवकूफी वाला कदम बताया जाता है। यह इसी से साबित होता है कि इधर वह जम्मू सीमा पर फ्लैग मीटिंग कर पाकिस्तान से सटी सीमा और एलओसी पर शांति बनाए रखने का आश्वासन दे रही थी और उधर तंगधार में गोलों की बरसात कर रही थी। जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान को भारी नुकसान पहुंचाने का दावा है। 
 
मंगलवार तड़के तंगधार सेक्टर में पाक सैनिकों ने पुनः भारतीय ठिकानों पर गोलाबारी शुरु कर दी। पाक सैनिकों ने टिकरी पोस्ट पर तैनात सेना की 20 जाट रेजिमेंट के जवानों को निशाना बनाते हुए एक के बाद एक कर पांच स्नाईपर शॉट दागे। इसमें कौशलसिंह नामक एक जवान गंभीर रुप से घायल हो गया। उसे उपचार के लिए द्रगमुला स्थित सैन्य अस्पताल में दाखिल कराया गया है। यह गोलाबारी आज सुबह पौने पांच बजे शुरु हुई। पाक सैनिकों ने पहले स्नाईपर शॉट दागे, बाद में उन्होंने मोर्टार से भी गोलाबारी की।
 
संबधित सैन्य अधिकारियों ने बताया कि घायल जवान को अस्पताल में पहुंचाने के फौरन बाद भारतीय जवानों ने भी पाक ठिकानों पर गोलाबारी शुरु कर दी। खबर लिखे जाने तक रुक-रुक कर गोलाबारी जारी थी। सभी अग्रिम चौकियों में तैनात जवानों व अधिकारियों को पूरी सतर्कता बरतने और दुश्मन के हर हरकत का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए कहा गया है।  
 
...और इधर शांति के लिए चर्चा : इतना जरूर था कि गोलाबारी के साथ-साथ पाक सेना शांति बनाए रखने का आश्वासन भी दे रही थी। जम्मू सीमा पर बीएसएफ और पाक रेंजरों के बीच सेक्टर स्तर की फ्लैग मीटिंग में दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच सीमा के जुडे़ मुद्दों पर चर्चा हुई। दोनों ओर से सीमा पर शांति बहाल रखने का आश्वासन दिया गया। सीमा पर दोनों ओर उगी झाड़ियों व सरकंडे आदि साफ रखने को लेकर दोनों पक्षों में चर्चा हुई।
 
आक्ट्राय पोस्ट पर हुई इस फ्लैग मीटिंग में दोनों देशों के अधिकारियों ने एक दूसरे को विश्वास दिलाया कि सीमा पर किसी तरह की कोई गोलीबारी नहीं की जाएगी। पर इस विश्वास को कुछ ही घंटों में पाक सेना ने तोड़ दिया।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING