केरल में बाढ़ : घर-वाहन का बीमा है तो इन बातों का रखें खास ध्यान

नृपेंद्र गुप्ता

मंगलवार, 21 अगस्त 2018 (20:10 IST)
केरल में आई भीषण बाढ़ ने लाखों लोगों की संपत्ति तबाह कर दी। हजारों घर तबाह हो गए और वाहन पानी में डूब गए। बाढ़ की त्रासदी से उबरने में लोगों को कई साल लग जाएंगे। हालांकि जिन लोगों ने मकान और वाहन का बीमा कराया उन्हें जल्द ही बीमा कंपनियों को इसकी सूचना दे देनी चाहिए। ताकि जल्द ही उनके नुकसान की कुछ भरपाई हो सके।

बाढ़ से तबाही में कैसे करें इंश्युरेंस क्लेम, हो सकती है नुकसान की भरपाई...
लोगों को बीमा करते समय प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान का विकल्प जरूर चुनना चाहिए। बीमा कंपनियों को उन संपत्तियों की भरपाई करनी ही होगी जिसका लोगों ने बीमा कराया था। बशर्ते लोग सही प्रक्रिया का पालन कर इसके लिए आवेदन कर दें। आपको नुकसान का दावा करने में भी ज्यादा देर नहीं करना चाहिए। 
 
घर क्षतिग्रस्त होने पर क्या करें : आपको अपने घर के कागज संभालकर बैंक लॉकर में सुरक्षित रखने चाहिए और  उसकी एक कॉपी घर पर संभाल कर रखें। आप इन कागजों को डीजिटल लॉकर में भी संभालकर रख सकते हैं। हादसे  के तुरंत बाद अपने बीमा एजेंट या कंपनी को फोन पर सूचना दें।

आप अपनी क्षतिग्रस्त संपत्ति की फोटो भी ले लें और उसे संभालकर रखें। आपको क्या-क्या नुकसान हुआ है उसकी सूची बनाकर रखे और उसे सर्वेयर को सौंप दें। सर्वेयर को संपत्ति से जुड़ी ज्यादा से ज्यादा जानकारी दें।
 
मोटर वाहन क्लेम से जुड़ी खास बातें : बाढ़ में क्षतिग्रस्त मोटर बीमा पर क्लेम सामान्य क्लेम की तरह ही ग्राहकों को मिलता है। हालांकि, ग्राहक पानी में डूबी हुई गाड़ी को किसी भी तरह स्टार्ट न करें। ऐसी कोशिश से इंजन खराब हो जाता है, जो कि क्लेम का हिस्सा नहीं होगा। यदि ग्राहक ऐसी आपदाओं के लिए कुछ बातों का पहले से ध्यान रखे तो उसे काफी लाभ मिल सकता है। 
 
मसलन रिटर्न टू इनवॉयस प्राइस कवर के जरिए पूरी तरह से क्षतिग्रस्त गाड़ी पर ग्राहक, गाड़ी की खरीदी गई कीमत तक क्लेम ले सकता है। गाड़ी के पानी में बह जाने और न मिलने के सुबूत अपने पास रखने  की कोशिश करें। आपदा से क्षतिग्रस्त गाड़ी के प्रमाण के लिए फोटो आदि को भी तैयार रखें।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING