कमलनाथ ने शिवराजसिंह चौहान को खत लिखकर दी चेतावनी

Webdunia
मंगलवार, 11 सितम्बर 2018 (15:03 IST)
भोपाल। कांग्रेस के मध्यप्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर प्रदेश में अवैध खनन के मामलों में शासकीय कर्मचारियों और पत्रकारों पर हमले के मामले में उचित कार्रवाई की मांग की है।


कमलनाथ की ओर से लिखे गए पत्र में कहा गया है कि कांग्रेस लंबे समय से प्रदेश में अवैध खनन का मुद्दा उठा रही है। पार्टी महासचिव दिग्विजय सिंह ने अपनी नर्मदा यात्रा के दौरान इस विषय में जो जानकारी प्राप्त की, वह भी उनसे साझा की।

उन्होंने आरोप लगाया कि देवास, सीहोर, रायसेन, जबलपुर, मंडला, नरसिंहपुर, होशंगाबाद और हरदा जिलों में अवैध खनन जोरों पर है और भाजपा के नेता भी इसमें शामिल हैं। अपनी बात के समर्थन में उन्होंने उदाहरण भी दिए हैं।

कमलनाथ ने होशंगाबाद जिले के बाबई ब्लॉक में एक हत्या संबंधित प्रकरण का जिक्र करते हुए कहा कि ट्रक चालक पर हत्या का मामला दर्ज कर अवैध खनन को संरक्षण देने वाले खनिज अधिकारी पर कार्रवाई हो और थाना प्रभारी को निलंबित किया जाए। उन्होंने इस प्रकरण की जिले के बाहर किसी अधिकारी से जांच कराने की भी मांग की। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा है कि उचित कार्रवाई नहीं होने की स्थिति में पार्टी आंदोलन करने पर मजबूर हो जाएगी। (वार्ता)

यूसी ब्राउजर का भारतीय बाजार में नया वर्जन लांच

फुल गारंटी! क्या आप कल्याण सट्‍टे का नंबर जानना चाहेंगे...

सामने आई बीएसएफ जवान के साथ पा‍क सैनिकों की बर्बरता की कहानी, खौल जाएगा खून

समंदर में बिकिनी पहन गजब ढाया किम करदाशियां ने, देखिए हॉट फोटो

श्री हनुमान चालीसा

सम्बंधित जानकारी

समंदर के जांबाज नेवी कमांडर अभिषेक टॉमी को बचाया गया

किस करते वक्त इसलिए पति की जीभ काट दी

चौंकाने वाली रिपोर्ट, शराब पीने से हर साल होती है 30 लाख लोगों की मौत

अब जियो टीवी पर देख सकेंगे क्रिकेट मैच

खुशखबर, नौकरी जाने पर मिलेगा पैसा, मोदी सरकार की नई योजना

रेवाड़ी गैंगरेप मामले में सेना के जवान समेत 3 और लोग गिरफ्तार

बंगाल में भाजपा का बंद, प्रदर्शनकारियों ने रोकी ट्रेनें, हेलमेट पहनकर बस चला रहे ड्राइवर

किसकी होगी जयललिता की संपत्ति, कोर्ट सुनाएगा फैसला, जानिए कितनी है संपत्ति...

भाजपा का कार्यकर्ता महाकुंभ 'वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड' में शामिल

सुप्रीम कोर्ट में आज फैसलों का दिन, आधार की वैधता सहित इन बड़े मामलों पर आएंगे फैसले

अगला लेख