महापर्व पर्युषण क्या है, जानिए

अनिरुद्ध जोशी
*पर्युषण का अर्थ है परि यानी चारों ओर से, उषण यानी धर्म की आराधना। श्वेतांबर और दिगंबर समाज के पर्युषण पर्व भाद्रपद मास में मनाए जाते हैं। श्वेतांबर के व्रत समाप्त होने के बाद दिगंबर समाज के व्रत प्रारंभ होते हैं।
 
 
*यह पर्व महावीर स्वामी के मूल सिद्धांत अहिंसा परमो धर्म, जिओ और जीने दो की राह पर चलना सिखाता है तथा मोक्ष प्राप्ति के द्वार खोलता है। इस पर्वानुसार- 'संपिक्खए अप्पगमप्पएणं' अर्थात आत्मा के द्वारा आत्मा को देखो।
 
 
*पर्यूषण के 2 भाग हैं- पहला तीर्थंकरों की पूजा, सेवा और स्मरण तथा दूसरा अनेक प्रकार के व्रतों के माध्यम से शारीरिक, मानसिक व वाचिक तप में स्वयं को पूरी तरह समर्पित करना। इस दौरान बिना कुछ खाए और पिए निर्जला व्रत करते हैं।
 
*श्वेतांबर समाज 8 दिन तक पर्युषण पर्व मनाते हैं जबकि दिगंबर 10 दिन तक मनाते हैं जिसे वे 'दसलक्षण' कहते हैं। ये दसलक्षण हैं- क्षमा, मार्दव, आर्नव, सत्य, संयम, शौच, तप, त्याग, आकिंचन्य एवं ब्रह्मचर्य।
 
 
*इन दिनों साधुओं के लिए 5 कर्तव्य बताए गए हैं- संवत्सरी, प्रतिक्रमण, केशलोचन, तपश्चर्या, आलोचना और क्षमा-याचना। गृहस्थों के लिए भी शास्त्रों का श्रवण, तप, अभयदान, सुपात्र दान, ब्रह्मचर्य का पालन, आरंभ स्मारक का त्याग, संघ की सेवा और क्षमा-याचना आदि कर्तव्य कहे गए हैं।
 
 
*पर्युषण पर्व के समापन पर 'विश्व-मैत्री दिवस' अर्थात संवत्सरी पर्व मनाया जाता है। अंतिम दिन दिगंबर 'उत्तम क्षमा' तो श्वेतांबर 'मिच्छामि दुक्कड़म्' कहते हुए लोगों से क्षमा मांगते हैं।

अगर आपके घर भी हैं ये 5 चीजें तो तुरंत बदल डालें, आपको कंगाल बना सकती हैं ये गलतियां

छोटी सी राई हर संकट को रोके, पढ़ें 5 बड़े काम के टोटके

सूर्य को इस तरह जल चढ़ाने से बनते हैं धनवान, जानें 14 खास बातें...

यह चटपटा जोक पढ़कर शर्तिया हंसी नहीं रुकेगी : ज़फर की बीवी का ज़नाजा

रसोई में कभी भूलकर न करें यह 5 गलतियां, परिवार और मुखिया हो सकते हैं परेशान

सम्बंधित जानकारी

धन और यश पाना चाहते हैं, तो रविवार को करें ये 5 चमत्कारिक उपाय ...

प्रयागराज कुंभ मेले में गंगा स्नान से क्या होगा फायदा?

चंद्र ग्रह को कैसे बनाएं बलशाली, जानिए लाल किताब से...

नागा साधु शरीर पर भभूत क्यों लगाते हैं और यह भभूत कैसे बनी है?

प्रयागराज कुंभ मेला, कौन है हिन्दुओं के असली शंकराचार्य?

ज्योतिष के अनुसार बुध की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...

सुबह उठकर अगर पढ़ लिए ये 10 नमस्कार मंत्र, तो आपको अमीर बनने से कोई नहीं रोक सकता

प्रयागराज कुंभ में प्रसाद और खाना खाने के मजे

बुधवार के दिन कर लें गणेश जी के 5 उपाय, मिलेगा धन, बढ़ेगा व्यापार...सपने होंगे साकार

हनुमानजी ने जब उखाड़ना चाहा रामेश्वरम के ज्योतिर्लिंग को तब टूट गया अभिमान

अगला लेख