भारतीय मूल के अमेरिकी वैज्ञानिक को मिला 65 लाख डॉलर का पुरस्कार

Webdunia
बुधवार, 12 सितम्बर 2018 (09:35 IST)
वॉशिंगटन। भारतीय मूल के एक अमेरिकी वैज्ञानिक को कैंसर बायोमार्कर्स की पहचान के लिए पुरस्कार में 65 लाख अमेरिकी डॉलर दिया गया है। कैंसर बायोमार्कर की पहचान से कैंसर के उपचार और इस घातक बीमारी के लिए नई लक्षित थेरेपी के विकास में मदद मिलेगी।


यूएस नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट ने अरुल चिन्नैयन को यह पुरस्कार दिया है। चिन्नैयन मिशिगन विश्वविद्यालय में प्रोफेसर हैं। मिशिगन विश्वविद्यालय ने एक बयान में कहा कि चिन्नैयन को नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट से 'आउटस्टेंडिंग  इन्वेस्टीगेटर अवॉर्ड' मिला है।

यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन मेडिकल स्कूल में पैथोलॉजी के प्रोफेसर चिन्नैयन ने कहा, इस अनुदान से हमें नए बायोमार्कर की पहचान और कैंसर की वृद्धि में उनकी जैविक भूमिका को समझने में मदद मिलेगी। कैंसर के जानकार चिन्नैयन ने 2010 में मिशिगन ऑकोलाजी सिक्वेंसिंग (एमआई-ओएनसीओएसईक्यू) कार्यक्रम शुरू किया। बायोमार्कर या बायोलॉजिकल मार्कर एक प्रकार का संकेतक है, जो जैविक स्थिति या हालात की जानकारी देता है। (भाषा)
फोटो सौजन्‍य : टि्वटर 

OMG! ट्रंप की तरह दिखता है यह कुत्ता, जीता पुरस्कार

नवरात्र में चमका सोना, चांदी की चमक लौटी

भाजपा में वंशवाद के नए चेहरे, नेताओं के 30 बेटे और बेटियों को मिला टिकट

बाप-बेटे दोनों के साथ... ये अभिनेत्रियां लड़ा चुकी हैं इश्क

16 नवंबर 2018 का राशिफल और उपाय...

सम्बंधित जानकारी

Intelligence Bureau में नौकरी करना चाहते हैं तो जल्दी करें, 1000 से ज्यादा पद

स्मार्ट फोन की बैटरी बचाती है यह तरकीब, गूगल ने बताई

नवजात को दूध पिला रही थी मां, बंदर ने छीनकर मार डाला...

अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे पंडित जवाहरलाल नेहरू...

रहमान ने बॉयोग्राफी में खोले राज, 25 साल की उम्र में आते थे खुदकुशी के ख्याल

#Metoo : बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जौहरी ने 10 घंटे तक दर्ज कराया बयान

मासूम बच्ची के बलात्कारी हत्यारे की फांसी की सजा बरकरार

मुसीबत में फंस सकते हैं बल्क में साड़ी, कपड़े खरीदने और बेचने वाले

भारत के लिए वृहद आर्थिक परिदृश्य बड़ा जोखिमभरा

BMW ने M2 कॉम्पिटिशन का नया मॉडल उतारा, कीमत जानकर हो जाएंगे हैरान...

अगला लेख