स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की यह तस्वीर हो रही वायरल, जानिए सच..

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल गुजरात के अहमदाबाद में ‘लौह पुरुष’ सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का उद्घाटन करने वाले हैं। यह दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा है। इसे बनाने में करीब 2389 करोड़ रुपये का खर्च आया है। इस प्रतिमा पर राजनीति होती रही है। पहले इस पर 'मेड इन चाइना' का ठप्पा लगा, तो अब मोदी सरकार पर हमला करते हुए एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस तस्वीर में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के पास एक गरीब महिला अपने बच्चों साथ खाना खाती नजर आ रही है।

क्या है वायरल तस्वीर का सच..

सोशल मीडिया पर इस तस्वीर को शेयर करते हुए कोई लिख रहा है – ‘इस तस्वीर को देखने के बाद बोलती बंद’ तो किसी ने लिखा – ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के पीछे आदिवासियों की वास्तविकता’।

Speechless after seeing this Image....

pic.twitter.com/H2wVdzWlxV

— Kunal Sehgal (@iambeingkunal) October 29, 2018


Reality Of Tribals Behind Statue of Unity... pic.twitter.com/ozhcW2u4jo

— Pankaj Machhar (@machhar_pankaj) October 29, 2018


अगर आप भी वायरल तस्वीर को सच मान बैठे हैं, तो आपको बता दें कि यह तस्वीर फेक है। सड़क पर अपने बच्चों के साथ खाना खाती महिला की तस्वीर को स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की तस्वीर में फोटोशॉप कर मर्ज कर दिया गया है।

महिला और बच्चों की तस्वीर न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की है, जिसे साल 2010 में अमित दवे ने अहमदाबाद में क्लिक की थी।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING