ऐसे हों हमारे गुरु...

हर कदम पर मिलते हैं गुरु

दिल को अच्‍छा लगा कि वाकई आज सामाजिक और मानवीय मूल्यों को बरकरार रखने वाले लोग भी इस दुनिया में हैं ...

उपहार, जो हो सबसे खास

कोरा सम्मान, कैसे बने काम

शत् शत् नमन गुरुजन को

समर्पण और मेहनत ही गुरुमंत्र है

संस्कारों की शिक्षा भी जरूरी

गुरु बिना जीवन की कल्पना असंभव

शि‍क्षक दि‍वस है पर्व सुनहरा

है आज बहुत हर्षि‍त मन मेरा,शि‍क्षक दि‍वस है पर्व सुनहरा।इस पुलकि‍त पावन अवसर पर,वंदन करता है मन मेरा...

शिक्षक व छात्र दोनों की जिम्मेदारी है

LOADING