शेयर बाजार में बड़ी गिरावट, सेंसेक्स ने लगाया 500 अंक से अधिक का गोता

Webdunia
मंगलवार, 11 सितम्बर 2018 (17:06 IST)
मुंबई। रुपए में जारी गिरावट और अमेरिका तथा चीन के बीच व्यापार युद्ध गहराने की आशंका के दबाव में घरेलू शेयर बाजारों में मंगलवार को लगातार दूसरे दिन भारी गिरावट रही। चौतरफा बिकवाली के बीच बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 509.04 अंक यानी 1.34 प्रतिशत लुढ़ककर 37,413.13 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 150.60 अंक यानी 1.32 प्रतिशत लुढ़ककर 11,287.50 अंक पर बंद हुआ।


दोनों सूचकांकों का यह करीब छह सप्ताह का निचला स्तर है। शेयर बाजार में सोमवार को भी बड़ी गिरावट रही थी। सेंसेक्स 467.65 अंक और निफ्टी 151 अंक की गिरावट में रहा था। इस प्रकार दो दिन में सेंसेक्स 976.69 अंक और निफ्टी 301.60 अंक का गोता लगा चुका है।

अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में कारोबार के दौरान डॉलर की तुलना में रुपया आज 72.73 रुपए प्रति डॉलर के ऐतिहासिक निचले स्तर तक उतर गया। साथ ही दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच व्यापार युद्ध गहराने की आशंका से विदेशी बाजारों में भी गिरावट रही। कमजोर वैश्विक संकेतकों से भी घरेलू बाजार में निवेशकों में निराशा बढ़ी। (वार्ता)

फुल गारंटी! क्या आप कल्याण सट्‍टे का नंबर जानना चाहेंगे...

हिन्दी निबंध : झांसी की रानी लक्ष्मीबाई

मजबूत गढ़ में भी मुश्किल में भाजपा, जानिए क्या है वजह...

14 जनवरी को मकर संक्रांति, क्या जीवन में लाएगी शांति, पढ़ें 12 राशियां

बगैर तकिया लगाए सोना है फायदेमंद, ये रहे 5 फायदे

सम्बंधित जानकारी

आपत्तिजनक कंटेंट को यूजर्स के रिपोर्ट करने से पहले ही हटाने पर काम कर रहा है फेसबुक

सावधान, उत्तर कोरिया ने किया नए हाई-टेक हथियार का परीक्षण

मुसीबत में फंस सकते हैं बल्क में साड़ी, कपड़े खरीदने और बेचने वाले

Intelligence Bureau में नौकरी करना चाहते हैं तो जल्दी करें, 1000 से ज्यादा पद

स्मार्ट फोन की बैटरी बचाती है यह तरकीब, गूगल ने बताई

सीरिया में 30 बच्चों की मौत, नहीं टला युद्ध का खतरा, संयुक्‍त राष्‍ट्र ने जताया शोक

नीमच में 23 प्रत्याशियों की किस्मत दांव पर, जावद में त्रिकोणीय संघर्ष के आसार

राजस्थान में एक भी मुस्लिम को भाजपा का टिकट नहीं, कांग्रेस ने 9 उम्‍मीदवारों पर लगाया दांव

मध्यप्रदेश में भाजपा के चुनावी घोषणा पत्र की प्रमुख बातें...

दिल्ली से खाली हाथ लौटे उपेंद्र, फिर नहीं हुई शाह से मुलाकात

अगला लेख