सेंसेक्स और निफ्टी लुढ़के

गुरुवार, 22 मार्च 2018 (17:31 IST)
मुंबई। अमेरिका और चीन के बीच जारी तनाव के वैश्विक व्यापार युद्ध की शक्ल लेने की आशंका से मची खलबली के बीच कनिष्क गोल्ड द्वारा 14 बैंकों को 840 करोड़ रुपए से अधिक का चूना लगाने की खबरों से बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 129.91 अंक लुढ़ककर 33,006.27 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 40.50 अंक की गिरावट में 10,114.75 अंक पर बंद हुआ।


अमेरिका और चीन के बीच बौद्धिक संपदा और आयात शुल्क का मामला जोर पकड़ रहा है। अमेरिका ने चीन ने आयातित वस्तुओं पर आयात शुल्क लगाने और चीन ने इसका करारा जवाब देने की बात कही है, जिससे निवेशकों का रुझान जोखिमभरे शेयर बाजार में घट गया है।

इस उथल-पुथल का सबसे अधिक असर यूरोपीय बाजारों पर पड़ा है और अधिकतर एशियाई बाजार भी इसकी चपेट में हैं। घरेलू स्तर पर कनिष्क गोल्ड द्वारा सबसे अधिक चपत भारतीय स्टेट बैंक को लगी है, जिससे सेंसेक्स की कंपनियों में बैंक के शेयरों में सर्वाधिक गिरावट रही है।

इसके अलावा रियल्टी, दूरसंचार और इंडस्ट्रियल्स समूहों के सूचकांक में रही गिरावट से शेयर बाजार लाल निशान में बंद हुआ। सेंसेक्स 70.81 अंक की बढ़त के साथ 33,206.99 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह 33,281.77 अंक के उच्चतम और 32,963.31 अंक के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.39 प्रतिशत की गिरावट में 33,006.27 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्स की आठ कंपनियों में तेजी और शेष 22 में गिरावट रही। निफ्टी भी 12.25 अंक की तेजी में 10,167.50 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह 10,207.85 अंक के उच्चतम और 10,105.40 अंक के निचले स्तर से होता हुआ यह गत दिवस की तुलना में 0.40 प्रतिशत की गिरावट में 10,105.40 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 36 कंपनियां लाल और शेष 14 हरे निशान में रहीं।

बीएसई में कुल 2,858 कंपनियों में कारोबार हुआ, जिनमें 139 कंपनियों के शेयरों के भाव अपरिवर्तित रहे जबकि 706 में तेजी और 2013 में गिरावट रही। छोटी और मंझोली कंपनियों पर बिकवाली का अधिक दबाव रहा। बीएसई का मिडकैप 0.75 प्रतिशत यानी 121.02 अंक लुढ़ककर 15,910.68 अंक पर और स्मॉलकैप 1.05 प्रतिशत यानी 180.30 अंक लुढ़ककर 17,064.12 अंक पर बंद हुआ। (वार्ता)

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING