मैरीकॉम ने पोलैंड टूर्नामेंट में जीता स्वर्ण, मनीषा को मिला रजत

रविवार, 16 सितम्बर 2018 (14:10 IST)
नई दिल्ली। अनुभवी एमसी मैरीकॉम (48 किग्रा) ने पोलैंड के गिलवाइस में 13वें सिलेसियन मुक्केबाजी टूर्नामेंट में साल का अपना तीसरा स्वर्ण पदक जीता जबकि मनीषा (54 किग्रा) को रजत पदक के साथ संतोष करना पड़ा।
 
मामूली चोट के कारण एशियाई खेलों से बाहर रहने के बाद वापसी कर रहीं 5 बार की विश्व चैंपियन एमसी मैरीकॉम ने एकतरफा मुकाबले में कजाखस्तान की येगेरिम कसानाएवा को 5-0 से हराकर सीनियर वर्ग में भारत को शनिवार को एकमात्र स्वर्ण पदक दिलाया। मैरीकॉम ने इससे पहले इस साल दिल्ली में इंडिया ओपन और गोल्ड कोस्ट में राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीते थे।
 
ओलंपिक की पूर्व कांस्य पदक विजेता 35 साल की मैरीकॉम ने अपने से लंबी खिलाड़ी के खिलाफ पलटवार करने की सफल रणनीति अपनाई। उन्होंने पूरे मुकाबले के दौरान कसानाएवा को एक बार भी वापसी करने का मौका नहीं दिया। भारतीय कोच रफाइल बर्गामास्को ने गिलवाइस से बताया कि मैरी ने शानदार तरीके से रणनीति को अंजाम दिया। यह बेदाग प्रदर्शन था।
 
दूसरी तरफ मनीषा को युक्रेन की इवाना क्रुपेनिया के खिलाफ 2-3 से हार का सामना करना पड़ा। मनीषा दोनों मुक्केबाजों में अधिक आक्रामक थी लेकिन इसके बावजूद जीत दर्ज करने में नाकाम रही। बर्गामास्को ने कहा कि मनीषा मुकाबले में काफी अच्छा खेली और मेरे नजरिए से वे जीत की हकदार थी।
 
सीनियर वर्ग में पूर्व विश्व चैंपियन एल. सरिता देवी (60 किग्रा), ऋतु ग्रेवाल (51 किग्रा), लवलीना बोरगोहेन (69 किग्रा) और पूजा रानी (81 किग्रा) ने भारत के लिए सीनियर वर्ग में 4 कांस्य पदक जीते।

युवा वर्ग में पूर्व विश्व चैंपियन ज्योति गुलिया (51 किग्रा) ने स्वर्ण पदक जीता। वह अर्जेंटीना में अगले महीने होने वाले युवा ओलंपिक खेलों के लिए क्वालीफाई करने वाली एकमात्र भारतीय मुक्केबाज हैं। जूनियर वर्ग में भारत ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 6 स्वर्ण, 6 रजत और 1 कांस्य पदक के साथ कुल 13 पदक जीते। (भाषा) 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING