श्रावण मास में जपें 3 कृष्ण मंत्र और 3 शिव मंत्र, हर तरह के संकट का होगा अंत

श्रावण माह में भगवान शिवजी की आराधना का विशेष महत्व है, साथ ही श्रावण माह में नंदलाल भगवान श्रीकृष्ण की आराधना भी अत्यधिक फल देती है। आप श्रावण माह में निम्न मंत्र की श्रावण शुक्ल पक्ष अष्टमी से श्रावण की पूर्णिमा तक 1 माला रोज करते हैं, तो मंत्र सिद्ध हो जाता है, साथ ही भगवान की अनन्य कृपा भी प्राप्त होती है।
 
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय
ॐ देवकीनन्दनाय नम:
ॐ परमात्मने नम:
 
भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए-
 
ॐ शिवाय नम: 
ॐ महाकालाय नम: 
ॐ अंगारेश्वराय नम: 
 
गायत्री मंत्र का भी श्रावण मास में मंत्र जप करना चाहिए।
 
श्रावण माह में महामृत्युंजय जाप करने से शारीरिक, मानसिक व तांत्रिक परेशानी तथा किसी भी प्रकार की पारिवारिक समस्याएं समाप्त हो जाती हैं।

ALSO READ: महामृत्युंजय मंत्र की वजह से जिंदा है अश्वत्थामा, जानिए, कितनी बार जपें महामृत्युंजय मंत्र..

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING