गणतंत्र दिवस 2012

गणतंत्र को निगलता मनमानी तंत्र
पावन है गणतंत्र यह, करो खूब गुणगान। भाषण-बरसाकर बनो, वक्ता चतुर सुजान॥ वक्ता चतुर सुजान, देश का गौरव...
गणतंत्र दिवस है प्रतीक स्वाभिमान का सद्भाव का, सद्बुद्धि का, उस संविधान का जिसने सभी धर्मों का नित स...
भारत के गणतंत्र का, सारे जग में मान। छह दशकों से खिल रही, उसकी अद्भुत शान॥ सब धर्मों को मान दे, रचा ...
आज नई सज-धज से गणतंत्र दिवस फिर आया है। नव परिधान बसंती रंग का माता ने पहनाया है। भीड़ बढ़ी स्वागत करन...
सत्य औ अहिंसा का, देता जो मंत्र है हर्षोल्लास भरा, दिवस गणतंत्र है। आबाल वृद्ध, नर नारी के, ह्रदय मे...