कश्मीर में ईद पर हिंसा, 3 पुलिसकर्मियों और 1 भाजपा कार्यकर्ता की हत्या

सुरेश एस डुग्गर

बुधवार, 22 अगस्त 2018 (22:08 IST)
श्रीनगर। आतंकवाद प्रभावित कश्मीर में आज बकरीद पर भी हिंसा हुई और राज्य के दो जिलों में आतंकवादियों ने एक इंस्पेक्टर सहित तीन पुलिसकर्मियों और एक भाजपा कार्यकर्ता की हत्या कर दी। नमाज के बाद सड़कों पर हिंसा, पत्थरबाजी का आलम यह था कि हिंसा में बीसियों लोग जख्मी हो गए। जगह-जगह आईएस के झंडे लहराती भीड़ पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे भी लगा रही थी।
 
बकरीद के मौके पर कई हिस्सों में प्रदर्शनकारी विरोध प्रदर्शन करते रहे। श्रीनगर में सड़कों पर पत्थरबाजी के साथ पाकिस्तान और आईएसआईएस के झंडे लहराए गए। कुलगाम में ईदगाह के बाहर जहां एक आंतकी को मार गिराया गया है, वहीं एक पुलिसकर्मी के भी मारे जाने की भी खबर है। अनंतनाग में भी पत्थरबाज हाथ में आईएसआईएस के झंडों के साथ पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते दिखे, तो शोपियां जिले में एक पूर्व सैनिक को अगवा किए जाने की भी खबर है। वहीं जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों ने मंगलवार रात करीब 2.30 बजे भाजपा कार्यकर्ता की हत्या कर दी।
 
आतंकवादियों ने कुलगाम के जाजरीपोरा के ईदगाह के बाहर तैनात एक पुलिसकर्मी को गोली मार दी। पुलिसकर्मी की मौके पर ही मौत हो गई। बताया जा रहा है कि जिस पुलिसकर्मी की आतंकियों ने हत्या की, वे एसपीओ थे और वे आतंकवादियों से मुकाबले के लिए पुलिस द्वारा चलाए जा रहे अभियान में भी शामिल थे। 
पुलिस ने बताया कि गोली लगने के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।
 
दूसरी तरफ बकरीद के मौके पर कश्मीर में जगह-जगह झड़प की भी खबर है। श्रीनगर में सुरक्षाकर्मियों और प्रदर्शनकारियों की झड़प हुई है। श्रीनगर में प्रदर्शनकारियों ने पाकिस्तान और आतंकवादी संगठन आईएसआईएस के झंडे भी लहराए। अनंतनाग में पत्थरबाजों ने पुलिस के वाहन पर पथराव किया। पुलिस स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास कर रही है।
 
बिजबिहाड़ा रेलवे स्टेशन पर आतंकियों ने सीआरपीएफ पर हमला किया। अज्ञात बाइक सवार आतंकवादियों ने बकरीद के मौके पर दहशत फैलाने के इरादे से बिजबिहाड़ा के हसनपोरा में सीआरपीएफ की 30वीं बटालियन की जी कंपनी के मुख्य द्वार पर ताबड़तोड़ फायरिंग की। गेट पर मौजूद गार्ड ने जवाबी कार्रवाई करते हुए फायरिंग की जिसके बाद आतंकी वहां से फरार हो गए। इसमें किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।
 
इन हिंसक वारदातों को काबू में करने के लिए सुरक्षाबलों को आगे आना पड़ा। कश्मीर घाटी के विभिन्न हिस्सों में नमाज-ए-ईद के बाद पाकिस्तान समर्थकों और पुलिस के बीच हुई हिंसक झड़पों में 4 सुरक्षाकर्मियों समेत 2 दर्जन से ज्यादा लोग जख्मी हो गए। दरअसल, बुधवार को सुबह से ही यहां कुछ नकाबपोश पाकिस्तान और इस्लामिक स्टेट के झंडे लहराते देखे गए।
 
इस दौरान पुलिस ने कई पत्थरबाजों को भी हिरासत में लिया। दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग के अशाजीपोरा और जंगलात मंडी में नमाज के संपन्न होने के साथ ही बड़ी संख्या में युवकों ने जमा होकर राष्ट्रविरोधी नारे लगाते हुए एक जुलूस निकाला। जुलूस में शामिल कुछ युवकों ने वहां तैनात सुरक्षाकर्मियों पर बिना किसी उकसावे के पथराव करते हुए सार्वजनिक संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया।
 
इससे पहले श्रीनगर में ईदगाह में नमाज के संपन्न होने और मीरवाइज मौलवी उमर फारुक के अपने घर के लिए रवाना होने के तुरंत बाद हिंसा भड़क उठी। उत्तरी कश्मीर के सोपोर, बारामूला, पल्हालन पटटन और कूपवाड़ा में भी नमाज-ए-ईद के बाद भारत विरोधी प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षाबलों पर पथराव करते हुए उनके बंकरों और वाहनों पर हमले किए।
 
मंगलवार रात पुलवामा में आतंकियों ने भाजपा कार्यकर्ता शब्बीर अहमद बट की गोली मारकर हत्या कर दी थी। हमले को अंजाम देने के बाद आतंकी मौके से फरार हो गए। वर्ष 2017 में भी आतंकियों ने भाजपा के यूथ प्रेसीडेंट को शापियां से अगवा कर मौत के घाट उतार दिया था। इसके पहले जून माह में ईद के मौके पर भी यहां उपद्रव का माहौल था। उस दिन भी पाकिस्तान व आतंकी संगठनों के झंडे लहराते हुए दिखे थे।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING