पत्थरबाजों की मदद से भाग गए दो आतंकवादी

सुरेश एस डुग्गर

शुक्रवार, 24 अगस्त 2018 (18:19 IST)
श्रीनगर। सुरक्षाबलों ने एक और आतंकी को मुठभेड़ में मार गिराया है। हालांकि उसके दो साथी पत्थरबाजों की मदद से भाग निकलने में कामयाब रहे। आतंकियों ने गुरुवार रात भी एक वनकर्मी को मौत के घाट उतार दिया था। बकरीद के दिन से कश्मीर में हिंसा तेज हो चुकी है, जिसमें अभी तक 5 लोगों को मौत हो चुकी है। 
 
सुरक्षाबलों ने शुक्रवार को अनंतनाग में एक पाकिस्तानी आतंकी को मार गिराया। मुठभेड़ स्थल पर क्रॉस फायरिंग की चपेट में आने से एक किशोर जख्मी हो गया है। आतंकी समर्थक हिंसक तत्वों और सुरक्षाबलों के बीच हुई हिंसक झड़पों में छह अन्य लोग जख्मी हो गए हैं। मुठभेड़ में मारे गए आतंकी की पहचान यूसुफ डार के रूप में हुई है। वह लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी थी।
 
मुठभेड़ स्थल से पुलिस ने चार ओवरग्राउंड वर्कर भी पकड़े हैं। हालात को देखते हुए प्रशासन ने पूरे इलाके में इंटरनेट सेवाओं को पूरी तरह बंद कर दिया है। एसएसपी अनंतनाग अल्ताफ अहमद खान ने बताया कि कोकरनाग के पास स्थित गडोल गांव में लश्कर-ए-तैयबा और हिज्बुल के आतंकियों के एक गुट के छिपे होने की सूचना पर शुक्रवार तड़के एक तलाशी अभियान चलाया गया।
 
मुठभेड़ के दौरान दो मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं। एक मकान के मलबे से एक आतंकी का शव और उसके हथियार मिले हैं। फिलहाल, तलाशी अभियान जारी है। इस दौरान क्रॉस फायरिंग की चपेट में आकर एक किशोर यावर अहमद चोपान जख्मी हो गया। उसे उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
 
मुठभेड़ शु़रू होने के कुछ ही समय बाद बड़ी संख्या में शरारती तत्व मुठभेड़ स्थल पर पहुंच गए। उन्होंने आतंकियों को भगाने के लिए सुरक्षाबलों की घेराबंदी तोड़नी चाही और सुरक्षाबलों पर पथराव शुरू कर दिया। सुरक्षाबलों ने उन्हें खदेड़ने के लिए लाठियों और आंसू गैस का सहारा लेते हुए आतंकियों के साथ मुठभेड़ जारी रखी। हिंसक झड़पों में छह लोग जख्मी हुए हैं।
 
पुलिस महानिदेशक डॉ. एसपी वैद ने गडोल मुठभेड़ में एक आतंकी के मारे जाने की पुष्टि करते हुए बताया कि मुठभेड़स्थल के पास से आतंकियों के चार ओवरग्राउंड वर्कर भी पकड़े गए हैं। उनके पास से आपत्तिजनक दस्तावेज और अन्य साजो-सामान भी जब्त किया गया है।
 
याद रहे बकरीद के दिन से ही जम्मू कश्मीर में लगातार आतंकी हमले हो रहे हैं। इसी दिन तीन आतंकियों ने तीन पुलिसकर्मियों की भी हत्या कर दी थी। यहां तक कि सुरक्षा बलों के जवानों पर पत्थरबाजी भी की गई। वहीं, गुरुवार रात को बारामुला में लश्कर-ए-तैयबा के संदिग्ध आतंकियों ने वन विभाग के एक अधिकारी की भी गोली मारकर हत्या कर दी थी।
 
एसएसपी बारामुला मीर इम्तियाज हुसैन ने बताया कि दो से तीन आतंकी रात करीब पौने दस बजे टंगमर्ग के पास जांडापल कुंजर गांव में दाखिल हुए। आतंकियों ने स्थानीय लोगों से वनकर्मी (38) तारिक अहमद मलिक के बारे में पूछा और फिर उसके मकान में दाखिल हो गए।
 
आतंकियों ने तारिक को देखते ही उस पर अंधाधुंध गोलियां बरसाईं और भाग निकले। गोलियों की आवाज सुनकर निकटवर्ती इलाके से सुरक्षाबल मौके पर पहुंचे। उन्होंने खून से लथपथ पड़े तारिक को अस्पताल पहुंचाया, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।
 
आतंकियों को पकड़ने के लिए पूरे इलाके की घेराबंदी कर ली गई है। एसएसपी ने बताया कि यह वारदात लश्कर ने अंजाम दी है। आतंकियों में लश्कर का स्थानीय आतंकी यूसुफ डार उर्फ कांतरू भी शामिल था।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING