SC/ST एक्ट में बिना नोटिस गिरफ्तारी नहीं, 7 साल से कम सजा वाले मामले में नियम लागू

Webdunia
बुधवार, 12 सितम्बर 2018 (08:22 IST)
लखनऊ। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने मंगलवार को पुलिस से कहा कि वह उच्चतम न्यायालय के 2014 के एक आदेश द्वारा समर्थित सीआरपीसी के प्रावधानों का पालन किए बगैर एक दलित महिला और उसकी बेटी पर हमले के आरोपी चार लोगों को गिरफ्तार नहीं कर सकती।
 
यह मामला आईपीसी के साथ-साथ अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (उत्पीड़न निरोधक) कानून के तहत दर्ज हुआ था, लेकिन न्यायालय ने पुलिस को तत्काल नियमित (रूटीन) गिरफ्तारी करने से रोक दिया। 
 
उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ में न्यायमूर्ति अजय लांबा और न्यायमूर्ति संजय हरकौली की खंडपीठ ने यह आदेश पारित किया। 
 
साल 2014 में उच्चतम न्यायालय ने अर्णेश कुमार के मामले में आरोपी की गिरफ्तारी पर दिशानिर्देशों का समर्थन किया था।
 
सीआरपीसी की धारा 41 और 41-ए कहती है कि सात साल तक की जेल की सजा का सामना कर रहे किसी आरोपी को तब तक गिरफ्तार नहीं किया जाएगा जब तक पुलिस रिकॉर्ड में उसकी गिरफ्तारी के पर्याप्त कारणों को स्पष्ट नहीं किया जाता।
 
उच्च न्यायालय का आदेश ऐसे समय पर आया है जब अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (उत्पीड़न निरोधक) कानून का दुरूपयोग रोकने के लिए उच्चतम न्यायालय की ओर से पारित आदेश को पलटने की मंशा से हाल में संसद ने इस कानून में संशोधन के लिए एक विधेयक पारित किया है। (भाषा) 

अकेले पड़े तेजप्रताप 'हठ' पर कायम, लालू का परिवार ऐश्वर्या के साथ...

सरदार वल्लभ भाई पटेल पर हिन्दी निबंध

राजस्थान में टिकट नहीं मिलने से मंत्री नाराज, भाजपा का दामन छोड़ा

कब होगी आपकी शादी, क्यों हो रही है देर, जानिए क्या है कारण

13 नवंबर 2018 का राशिफल और उपाय...

सम्बंधित जानकारी

Intelligence Bureau में नौकरी करना चाहते हैं तो जल्दी करें, 1000 से ज्यादा पद

स्मार्ट फोन की बैटरी बचाती है यह तरकीब, गूगल ने बताई

इन खूबियों से लैस है देश की पहली परमाणु पनडुब्बी INS अरिहंत, दुश्मनों को कर देगी नेस्तनाबूद

ई-कॉमर्स कंपनी पर हाईकोर्ट का शिकंजा, नहीं बेच सकेगी नकली सामान

रहमान ने बॉयोग्राफी में खोले राज, 25 साल की उम्र में आते थे खुदकुशी के ख्याल

नाम बदलने के बाद अयोध्या में मांस और शराब की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी में योगी सरकार

राफेल डील पर डसॉल्ट CEO एरिक का बयान, उलटा पड़ सकता है राहुल गांधी का दांव

शक्ति पम्पस को दूसरी तिमाही में 9.27 करोड़ रुपए मुनाफा

योगी अब बदलेंगे लखनऊ जू का नाम, नवाब वाजिद अली शाह की जगह होगा अटल बिहारी वाजपेयी प्राणी उद्यान

प्राइवेट कंपनियों के कर्मचारियों को बड़ा 'तोहफा' देने की तैयारी में मोदी सरकार

अगला लेख