हरतालिका तीज का नाम कैसे पड़ा, तीज पर पढ़ें पार्वती जी के 5 और शिव जी के 7 मंत्र

Webdunia
हरतालिका तीज का पर्व शिव और पार्वती के मिलन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। मां पार्वती ने 107 जन्म लिए थे कल्याणकारी भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए। अंततः मां-पार्वती के कठोर तप के कारण उनके 108वें जन्म में भोले बाबा ने पार्वती जी को अपनी अर्धांगिनी के रूप में स्वीकार किया था। 
 
क्यों पड़ा हरतालिका तीज नाम? 
 
हरतालिका दो शब्दों से बना है, हर और तालिका। हर का अर्थ है हरण करना और तालिका अर्थात सखी। यह पर्व भाद्रपद की शुक्ल तृतीया को मनाया जाता है, इसलिए इसे तीज कहते हैं। इस व्रत को हरतालिका इसलिए कहा जाता है, क्योंकि पार्वती की सखी उन्हें पिता के घर से हरण कर जंगल में ले गई थी। 
 
मां पार्वती को प्रसन्न करने के 5 मंत्र 
 
ॐ उमाये नमः। ॐ पार्वत्यै नमः। ॐ जगद्धात्रयै नमः। ॐ जगत्प्रतिष्ठायै नमः। ॐ शांतिरूपिण्यै नमः। 
 
भगवान शिव को प्रसन्न करने के 7 मंत्र 
 
ॐ शिवाय नमः। ॐ हराय नमः। ॐ महेश्वराय नमः। ॐ शम्भवे नमः। ॐ शूलपाणये नमः। ॐ पिनाकवृषेनमः। ॐ पशुपतये नमः। 

 

बहुत कम हिन्दू जानते हैं महाभारत के योद्धाओं के ये 7 गुप्त रहस्य

18 नवंबर 2018 का राशिफल और उपाय...

तुला राशि वालों के लिए लाल किताब की सलाह

शिक्षक दिवस पर प्रेरक कहानी : शब्दों का प्रभाव

बार-बार पेशाब आने के 5 कारण और उपाय

सम्बंधित जानकारी

मौली क्या है, क्यों है इसका इतना धार्मिक महत्व, पढ़ें खास बातें...

लाल किताब अनुसार शनि के अशुभ होने की निशानी

आपने नहीं पढ़ी होगी सहस्रबाहु और रावण के युद्ध की यह कथा

यह 30 बातें जो हर पूजा-पाठ करने वाले व्यक्ति को पता होना चाहिए....वरना...

हमेशा ध्यान में रखें चाणक्य नीति की ये 10 विशेष बातें...

400 साल तक बर्फ में दबे रहे केदारेश्‍वर मंदिर के 6 रहस्य

जब मां लक्ष्मी ने भगवान विष्णु और शिव जी को एक साथ कराया भोजन, पढ़ें आंवला नवमी क्यों है खास

जब भगवान विष्णु ने एक सुंदरी का रूप धारण कर ली परीक्षा, पढ़ें एकादशी की अनूठी कथा...

एकादशी का करते हैं उपवास तो इन 20 बातों का रखें ध्यान

सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य का संक्षिप्त परिचय

अगला लेख