हरतालिका तीज का नाम कैसे पड़ा, तीज पर पढ़ें पार्वती जी के 5 और शिव जी के 7 मंत्र

Webdunia
हरतालिका तीज का पर्व शिव और पार्वती के मिलन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। मां पार्वती ने 107 जन्म लिए थे कल्याणकारी भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए। अंततः मां-पार्वती के कठोर तप के कारण उनके 108वें जन्म में भोले बाबा ने पार्वती जी को अपनी अर्धांगिनी के रूप में स्वीकार किया था। 
 
क्यों पड़ा हरतालिका तीज नाम? 
 
हरतालिका दो शब्दों से बना है, हर और तालिका। हर का अर्थ है हरण करना और तालिका अर्थात सखी। यह पर्व भाद्रपद की शुक्ल तृतीया को मनाया जाता है, इसलिए इसे तीज कहते हैं। इस व्रत को हरतालिका इसलिए कहा जाता है, क्योंकि पार्वती की सखी उन्हें पिता के घर से हरण कर जंगल में ले गई थी। 
 
मां पार्वती को प्रसन्न करने के 5 मंत्र 
 
ॐ उमाये नमः। ॐ पार्वत्यै नमः। ॐ जगद्धात्रयै नमः। ॐ जगत्प्रतिष्ठायै नमः। ॐ शांतिरूपिण्यै नमः। 
 
भगवान शिव को प्रसन्न करने के 7 मंत्र 
 
ॐ शिवाय नमः। ॐ हराय नमः। ॐ महेश्वराय नमः। ॐ शम्भवे नमः। ॐ शूलपाणये नमः। ॐ पिनाकवृषेनमः। ॐ पशुपतये नमः। 

 

किस वार को जन्मे हैं आप? जानिए वार अनुसार अपना स्वभाव...

श्री हनुमान चालीसा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कुंडली की 8 बड़ी बातें, 2019 में क्या होंगी ज्योतिषीय चुनौतियां

भारती सिंह और उनके पति हर्ष अस्पताल में भर्ती

किस करते वक्त इसलिए पति की जीभ काट दी

सम्बंधित जानकारी

यमराज की मृत्यु का रहस्य जानकर चौंक जाएंगे आप

कौन हैं हमारे दिव्य पितर, जानिए रहस्य

शरीर छोड़ने के बाद आत्मा कहां पहुंच जाती है, जानिए रहस्य

नियम से करेंगे ये 12 काम, तो आप बन सकते हैं धनवान...

अपने ऑफिस को बनाएं शुभ और सकारात्मक, जानिए ज्योतिष के उपाय ...

क्यों नहीं होते 16 दिन शुभ कार्य? श्राद्ध में कौए-श्वान और गाय का महत्व

श्राद्ध के दिन करें पितरों के लिए यह प्रार्थना, हर तिथि है खास

कौन कर सकता है श्राद्ध? विशेष जानकारी...

23 सितंबर 2018 का राशिफल और उपाय...

23 सितंबर 2018 : आपका जन्मदिन

अगला लेख