अतिआत्मविश्वास न डुबो दे 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा की लुटिया...

Webdunia
सोमवार, 10 सितम्बर 2018 (14:11 IST)
भाजपा अब तीन बड़े राज्यों के विधानसभा चुनावों और लोकसभा चुनाव 2019 के लिए रणनीति तैयार कर रही है, लेकिन SC/ST एक्ट के संशोधन पर सवर्णों की नाराजगी और पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम उसके लिए कहीं परेशानियां न खड़ी कर दें।
 
SC/ST एक्ट पर भाजपा अपने रुख पर कायम है, जबकि 6 सितंबर को इस मुद्दे पर बुलाए गए बंद का सबसे ज्यादा मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, बिहार में देखने को मिला। तेल की बढ़ती कीमतों और गिरते रुपए पर भी मोदी सरकार लगातार विपक्ष के निशाने पर है। 
 
इन मुद्दों से इतर भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह का भाजपा कार्यकारिणी की बैठक कहा कि 2019 का लोकसभा चुनाव भाजपा जीतेगी और 2019 के बाद 50 साल तक पार्टी को हराने वाला कोई नहीं होगा। यह बयान भाजपा के अतिआत्मविश्वास को दर्शाता है। 
 
2019 में लोकसभा चुनाव के पहले मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में भाजपा को चुनावी मैदान में उतरना है। इन तीनों राज्यों में भाजपा की सरकार है, लेकिन इन राज्यों में उसकी राह आसान नजर नहीं आ रही है।
 
SC/ST एक्ट पर संशोधन पर भाजपा को विरोध मध्यप्रदेश में देखने को मिला। राजस्थान में भी भाजपा की राह आसान नजर नहीं आ रही है। छत्तीसगढ़ में भी भाजपा के समीकरण गड़बड़ा रहे हैं।

फुल गारंटी! क्या आप कल्याण सट्‍टे का नंबर जानना चाहेंगे...

मजबूत गढ़ में भी मुश्किल में भाजपा, जानिए क्या है वजह...

सपना चौधरी के बारे में 10 खास बातें, जिसकी वजह से लाखों हैं उनके दीवाने

14 जनवरी को मकर संक्रांति, क्या जीवन में लाएगी शांति, पढ़ें 12 राशियां

बगैर तकिया लगाए सोना है फायदेमंद, ये रहे 5 फायदे

सम्बंधित जानकारी

आपत्तिजनक कंटेंट को यूजर्स के रिपोर्ट करने से पहले ही हटाने पर काम कर रहा है फेसबुक

सावधान, उत्तर कोरिया ने किया नए हाई-टेक हथियार का परीक्षण

मुसीबत में फंस सकते हैं बल्क में साड़ी, कपड़े खरीदने और बेचने वाले

Intelligence Bureau में नौकरी करना चाहते हैं तो जल्दी करें, 1000 से ज्यादा पद

स्मार्ट फोन की बैटरी बचाती है यह तरकीब, गूगल ने बताई

सीरिया में 30 बच्चों की मौत, नहीं टला युद्ध का खतरा, संयुक्‍त राष्‍ट्र ने जताया शोक

नीमच में 23 प्रत्याशियों की किस्मत दांव पर, जावद में त्रिकोणीय संघर्ष के आसार

राजस्थान में एक भी मुस्लिम को भाजपा का टिकट नहीं, कांग्रेस ने 9 उम्‍मीदवारों पर लगाया दांव

मध्यप्रदेश में भाजपा के चुनावी घोषणा पत्र की प्रमुख बातें...

दिल्ली से खाली हाथ लौटे उपेंद्र, फिर नहीं हुई शाह से मुलाकात

अगला लेख