केरल में बाढ़ : रिलायंस फाउंडेशन ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिए 21 करोड़ रुपए

मंगलवार, 21 अगस्त 2018 (23:45 IST)
मुंबई। दक्षिण भारतीय राज्य केरल सौ सालों के सबसे भीषण प्राकृतिक त्रासदी से जूझ रहा है। बाढ़ के चलते  राज्य में 373 लोगों की मौत हो गई और करीब 10 लाख लोगों ने राहत शिविरों में शरण ली है। बाढ़ प्रभावित केरल की मदद के लिए रिलायंस फाउंडेशन आगे आया है। 
 
 
रिलायंस फाउंडेशन ने केरल में कई स्तरों पर बचाव, राहत और पुनर्वास कार्यक्रम शुरू किया है। फाउंडेशन की तरफ से मुख्यमंत्री राहत कोष में 21 करोड़ रुपए दान किए जाएंगे। इसके साथ ही करीब 50 करो़ड़ की राहत सामग्री भी केरल भेजी जा रही है।
 
रिलायंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन नीता अंबानी ने कहा, 'केरल के हमारे भाई-बहन एक गंभीर समस्या से जूझ रहे हैं। ऐसे में एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट फाउंडेशन और भारतीय होने के नाते हमारी जिम्मेदारी है कि हम बचाव, राहत और पुनर्वास के लिए प्रदेश की सहायता करें। इस मुश्किल घड़ी में रिलायंस फाउंडेशन केरल के साथ खड़ा है। प्रदेश में जब तक परिस्थितियां सामान्य नहीं हो जाती, तब तक हम वहां काम करते रहेंगे।'
 
उन्होंने कहा, '2013 में जब भूकंप और बाढ़ की वजह से उत्तराखंड में तबाही मची थी, तब रिलायंस फाउंडेशन ने बेहद कम समय में अपने कर्मचारियों और कार्यकर्ताओं को वहां बचाव और राहत कार्य के लिए तैयार कर लिया था। हमारी टीम ने 2014 में जम्मू कश्मीर बाढ़, 2015 में नेपाल बाढ़, 2015 में तमिलनाडु बाढ़, 2015 में मुंबई बाढ़ और 2016 में मराठवाड़ में आए 'अकाल' में भी तत्परता से काम किया है।'
 
केरल में बचाव और राहत कार्य
* 14 अगस्त 2018 से रिलायंस फाउंडेशन की टीम छह सबसे प्रभावित जिलों एर्णाकुलम, वायानाड, अलप्पुझा, थ्रिशूर, इडुक्की और पाथनामथिट्टा में बचाव और राहत कार्य में जुटी हुई है।
* टीम रिलायंस फाउंडेशन इनफॉर्मेशन सर्विसेज (RFIS) का इस्तेमाल कर अस्थाई शेल्टर्स के मौसम और लोकेशन की जरूरी जानकारी अपडेट कर अपना सहयोग दे रही है। इसने प्रदेश आपदा अधिकारियों को टोल-फ्री हेल्पलाइन नंबर भी उपलब्ध करवाया है।
* रिलायंस फाउंडेशन ने 15 हजार प्रभावित परिवारों की पहचान की है, आने वाले दिनों में उन्हें सूखा राशन, बर्तन, रहने की जगह, जूते और कपड़े उपलब्ध कराए जाएंगे। सामग्री रिलायंस रिटेल की मदद से सप्लाई की जाएगी।
* रिलायंस रिटेल की तरफ से सरकार द्वारा संचालित 160 राहत शिविरों में रेडी टू ईट फूड, ग्लूकोज और सैनिटरी नैप्किन उपलब्ध कराए गए हैं।
* करीब 2.6 मेट्रिक टन राहत सामग्री महाराष्ट्र सरकार को दी गई है, जिसे वायुमार्ग से केरल पहुंचाया जाएगा।
* केरल के बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए कपड़ों की 7.5 लाख जोड़ियां, 1.5 लाख जोड़ी जूते-चप्पल और सूखा राशन भेजा जा रहा है।
* राहत कार्य के लिए रिलायंस रिटेल की तरफ से करीब 50 करोड़ का सामान दिया जा रहा है।
 
चिकित्सकीय सहायता
संक्रामक रोगों को फैलने से रोकने के लिए केरल में मेडिकल सहायता बेहद आवश्यक है, ऐसे में रिलायंस फाउंडेशन ये कदम उठाने जा रहा है।
* तीन जिलों में मेडिकल कैम्प : रिलायंस फाउंडेशन मलयालम बोलने वाले डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की मदद से तीन जिलों में कैम्प संचालित करेगा।
* राज्य सरकार को दवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी, जिनका इस्तेमाल जिला प्रशासन की तरफ से किया जा सके।
 
इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट और रिपेयर कार्य
* स्कूल-प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों का पुनर्निर्माण और रिपेयर : रिलायंस फाउंडेशन स्कूलों और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में हुए नुकसान की पहचान कर रहा है। वह इन इमारतों के पुनर्निर्माण का काम करेगा।
* निर्माण सामग्री : सार्वजनिक इंफ्रास्ट्रक्चर जैसे स्कूल, कॉलेज और सड़कों के पुनर्निर्माण के लिए राज्य सरकार को सामग्री उपलब्ध कराएगा।
* रिलायंस फाउंडेशन निर्माण कार्य के लिए कुशल कारपेंटर, मिस्त्री और इलेक्ट्रिशियन कॉन्ट्रैक्टर भेजेगा।
* घर के सामानों को ठीक करने के लिए रिपेयर क्लिनिक : रिलायंस डिजिटल विभिन्न मैनुफैक्चरर्स से मिलकर रिपेयर क्लिनिक खोलने की तैयारी में है। इन क्लिनिक्स में बारिश से खराब हुए घरेलु उपकरणों के ठीक किया जाएगा।
 
रिलायंस जियो
* इस मुश्किल घड़ी में लोग अपने करीबियों से संपर्क में रह सकें इसलिए रिलायंस जियो ने अनलिमिटेड कॉल और डेटा पैक की अवधि 7 दिन के लिए बढ़ाई है।
* जियो ने इडुक्की और एर्णाकुलम में 100 एमबीपीएस बैंडविथ एक्सटेंड की है ताकि इडुक्की कलेक्टर ऑफिस और आसपास के इलाके में बीएसएनल की सेवाएं रिस्टोर हो सके. लैंडस्लाइड की वजह से यह इलाका संपर्क क्षेत्र से बाहर हो गया है।
* जियो ने एक टोल फ्री नंबर 1800-893-9999 शुरू किया है, जिसकी मदद से लापता लोगों की लोकेशन पता लगाई जा सकती है। इस नंबर पर कॉल करने से यूजर का आखिरी लोकेशन एसएमएस के माध्यम से उपलब्ध हो जाएगा।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING