जम्मू-कश्मीर और हरियाणा के झज्‍जर में भूकंप के झटके, जान-माल का नुकसान नहीं

Webdunia
बुधवार, 12 सितम्बर 2018 (10:12 IST)
श्रीनगर। जम्मू कश्मीर और हरियाणा के झज्जर में बुधवार की सुबह मध्यम स्तर के भूकंप के झटके महसूस किए गए। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि 05.15 बजे आए भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 4.6 मापी गई। भूकंप का केंद्र लद्दाख क्षेत्र में कारगिल के उत्तर में 199 किलोमीटर की दूरी पर रहा। फिलहाल भूकंप से किसी प्रकार के जान-माल के नुकसान की खबर नहीं है।


खबरों के मुता‍बिक, जम्मू-कश्मीर और हरियाणा के झज्जर में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। दरअसल, जम्मू-कश्मीर में सुबह 5.15 बजे भूकंप के झटके महसूस हुए, जिसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.6 की तीव्रता मापी गई। वहीं हरियाणा के झज्जर में सुबह 5.43 बजे भूकंप के झटके महसूस हुए, जिसकी तीव्रता 3.1 मापी गई। भूकंप के इन झटकों से लोग सहम उठे और अपने घरों से निकल गए, हालांकि अभी तक इन झटकों से किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।

इससे पहले 10 सितंबर को उत्तर प्रदेश के मेरठ और दिल्ली सहित समूचे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। अमेरिका के जियोलॉजिकल सर्वे ने भी इसकी पुष्टि की थी। हालांकि उसमें भी किसी के हताहत होने की खबर नहीं थी। इसी तरह 9 सितंबर को भी हरियाणा के झज्जर जिले में झटके महसूस किए गए थे, जिसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.8 आंकी गई थी।

भूकंप आए तो बरतें सावधानी : भूकंप आने के बाद बरती गईं सावधानियां आपकी जान बचा सकती है। यदि आप घर से बाहर हैं तो ऊंची इमारतों, बिजली के खंभों आदि से दूर रहें। जब तक झटके खत्म न हों, बाहर ही रहें। चलती गाड़ी में होने पर जल्द गाड़ी रोक लें और गाड़ी में ही बैठे रहें। ऐसे पुल या सड़क पर जाने से बचें, जिन्हें भूकंप से नुकसान पहुंचा हो। भूकंप आने के वक्त यदि आप घर में हैं तो फर्श पर बैठ जाएं। मज़बूत टेबल या किसी फर्नीचर के नीचे पनाह लें। टेबल न होने पर हाथ से चेहरे और सिर को ढंक लें। घर के किसी कोने में चले जाएं और कांच, खिड़कियों, दरवाज़ों और दीवारों से दूर रहें। बिस्तर पर हैं तो लेटे रहें, तकिए से सिर ढंक लें। आसपास भारी फर्नीचर हो तो उससे दूर रहें।

जानिए नारदजी के हवा में उड़ने की शक्ति का राज! (वीडियो)

विधायकों ने लौटाए सुरक्षागार्ड, जताई हत्या की आशंका

इबोला वायरस ने 200 से ज्यादा लोगों को मौत की नींद सुलाया

बाल दिवस विशेष : गुम हो रहा है बचपन, आखिर कौन है जिम्मेदार?

शिक्षक दिवस पर प्रेरक कहानी : शब्दों का प्रभाव

सम्बंधित जानकारी

Intelligence Bureau में नौकरी करना चाहते हैं तो जल्दी करें, 1000 से ज्यादा पद

स्मार्ट फोन की बैटरी बचाती है यह तरकीब, गूगल ने बताई

नवजात को दूध पिला रही थी मां, बंदर ने छीनकर मार डाला...

अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे पंडित जवाहरलाल नेहरू...

रहमान ने बॉयोग्राफी में खोले राज, 25 साल की उम्र में आते थे खुदकुशी के ख्याल

कश्मीर में ताजा बर्फबारी के बाद 7 जिलों में हिमस्खलन की चेतावनी

बड़ी खबर, रिजर्व बैंक 15 नवंबर को आर्थिक प्रणाली में 12,000 करोड़ की नकदी डालेगा

यौन उत्पीड़न के आरोप झेल रहे बीसीसीआई CEO राहुल जौहरी ने दी गवाही

मुम्बई में 21 मंजिला इमारत में आग लगने से 2 लोगों की मौत, 3 घायल

भारत निर्वाचन आयोग ने विधानसभा चुनाव की तैयारियों पर जताया संतोष

अगला लेख