नाग पंचमी व्रत पूजन से क्या मिलता है लाभ...जानिए, 6 पौराणिक राज

हिंदू धर्म में सांप को दैवीय जीव के रूप में पूजा जाता है। प्राचीनकाल से ही नागपंचमी के दिन सांपों की पूजा की जाती रही है। नागपंचमी का पर्व मनाने के पीछे कई रोचक पौराणिक कथाएं प्रचलित हैं। जानते हैं इस त्‍योहार के बारे में अन्‍य खास बातें…
 
1.हिंदुओं के अराध्‍य देवताओं का सांपों के प्रति विशेष लगाव प्राचीन काल से ही है। शेषनाग पर लेटे भगवान विष्‍णु हों या फिर कंठ में सर्परूपी माला धारण करने वाले भगवान शिव। यहां तक कि माता पार्वती के कई मंदिरों में भी नागों की विशेष पूजा होती है। लोग मां दुर्गा के प्रारंभिक स्‍वरूप के रूप में भी नागों की पूजा करते हैं।
 
2. सावन मास के शुक्‍ल पक्ष की पंचमी तिथि को नागपंचमी मनाई जाती है। इस बार यह 15 अगस्‍त को है। वहीं देश के कई भागों में सावन के कृष्‍ण पक्ष की पंचमी को भी नागपंचमी के रूप में मनाया जाता है।
 
3.हिंदू पुराणों में नागों को पाताल लोक या फिर नाग लोक का स्‍वामी माना जाता है। नागपंचमी के दिन सर्पों की देवी मनसा देवी की विशेष पूजा की जाती है। दक्षिण भारत में हिमालय श्रृंखला के शिवालिक पर्वत पर मनसा देवी का विशाल मंदिर स्थित है। मान्‍यता है कि भगवान शिव के अंश से ही मनसा देवी की उत्‍पत्ति हुई थी। इन्‍हें नाग समुदाय की देवी और नागराज वासुकी की बहन भी माना जाता है। मान्‍यता है कि नागपंचमी के दिन मनसा देवी की आराधना करने से भक्‍तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और नाग दंश का भय दूर होता है।
 
4. नागपंचमी के दिन सांपों को दूध और लावा अर्पित करके भक्‍तजन अपने परिवार के सुख, समृद्धि और सुरक्षा का वरदान मांगते हैं। भारत के अलावा यह त्‍योहार पड़ोसी देश नेपाल में भी धूमधाम से मनाया जाता है। कुछ स्‍थानों पर चतुर्थी के दिन भी सांपों की पूजा होती है। इसे नाग चतुर्थी कहा जाता है।
 
5. पुराणों में बताया गया है कि एक बार कालिया नाग ने पूरी यमुना नदी के पानी में अपने शरीर से विष घोल दिया था। बृजवासियों के लिए नदी का पानी जहर बन चुका था। फिर भगवान विष्‍णु के अवतार भगवान कृष्‍ण ने बृजवासियों की समस्‍या के निवारण के लिए एक चाल चली। ए‍क दिन वह गेंद ढूंढने के बहाने से यमुना में कूद गए और वहां डेरा डाले कालिया नाग को युद्ध में पछाड़ दिया।
 
युद्ध में पराजित होने के बाद कालिया नाग ने नदी में घुले अपने संपूर्ण विष को वापस ले लिया। उस दिन सावन की पंचमी तिथि थी। इसके बदले में भगवान कृष्‍ण ने उन्‍हें वरदान दिया कि जो भी पंचमी के दिन सर्प देवता को दूध पिलाएगा उसके जीवन से सारे कष्‍ट दूर हो जाएंगे। उसी दिन से नागपंचमी का त्‍योहार मनाया जाता है।
 
6. नागपंचमी मनाने के पीछे समुद्र मंथन से जुड़ी एक और कथा प्रचलित है। मान्‍यता है कि समुद्र मंथन से निकले हलाहल विष की कुछ बूंदों को सांपों ने पी लिया। इसके बाद से सांप जहरीले हो गए। इसलिए अपने परिवार को नागदंश से बचाने के लिए नागपंचमी के दिन भक्‍त सर्प देवता की पूजा करते हैं। भविष्य पुराण में और महाभारत में नागपंचमी की पूजा का संबंध पाण्डव वंशीय राजा जनमेजय के नाग यज्ञ से बताया गया है।
 
लाभ  
 
इस दिन व्रत पूजन से नाग देवता का आशीर्वाद प्राप्त होता है। नागदेवता का आशीष वंश वृद्धि के साथ, सुख, सौभाग्य,समृद्धि,सफलता,संपन्नता और स्नेहमयी जीवन के लिए शुभ और फलदायक होता है। 
 
इस दिन पूजन से पितरों को तृप्ति और शांति मिलती है। पितृ प्रसन्न होकर आशीर्वाद प्रदान करते हैं। 
 
भगवान भोलेनाथ भी इस पूजन से कालसर्प दोष मुक्ति का आशीष देते हैं। 

ALSO READ: 15 अगस्त 2018 को मनाया जाएगा नागपंचमी का पर्व भी, जानें पूजा का मुहूर्त और विधि

ALSO READ: 288 कालसर्प योग होते हैं कुंडली में, इसलिए हर किसी के लिए जरूरी है नागपंचमी पूजन...

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING