मध्यप्रदेश : EVM के घमासान में शिवराज और कमलनाथ आमने-सामने

भोपाल। मध्यप्रदेश में वोटिंग खत्म होने के बाद सूबे भर के जिला मुख्यालयों में स्ट्रांग रूम में रखी हुई ईवीएम की सुरक्षा और मतगणना के दौरान होने वाली गड़बड़ी को लेकर कांग्रेस के तेवर कड़े होते जा रहे हैं। ईवीएम की सुरक्षा को लेकर जहां कांग्रेस प्रत्याशी और कार्यकर्ता स्ट्रांग रूम के बाहर डेरा डालकर रतजगा कर रहे हैं, वहीं अब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने पूरे मुद्दे को सीधे अपने हाथों में ले लिया।


कमलनाथ के नेतृत्व में मंगलवार को कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल दिल्ली में चुनाव आयोग के दफ्तर पहुंचकर मुख्य निर्वाचन आयुक्त से मिलेगा। कांग्रेस मुख्य निर्वाचन आयुक्त से ईवीएम की सुरक्षा और पूरे प्रदेश में निर्वाचन के बाद ईवीएम को जमा करने में अधिकारियों की गड़बड़ी की शिकायत आयोग से करेगा। कांग्रेस का आरोप है कि स्ट्रांग रूम में रखी ईवीएम को लेकर सतर्कता नहीं बरती जा रही है।

पूरे प्रदेश से स्ट्रांग रूम के बाहर गड़बड़ी की शिकायतें लगातार मिल रही हैं। कांग्रेस ने भोपाल, सतना, सागर, रायसेन समेत कई जिलों में ईवीएम की सुरक्षा को लेकर सवाल भी उठाए हैं, वहीं कांग्रेस की ईवीएम की सुरक्षा को लेकर आशंकाओं को बीजेपी ने पूरी तरह राजनीति करार दिया है। सूबे के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस हार के डर से ईवीएम को मुद्दा बना रही  है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि जो जमीन पर काम करता है, जीत उसकी ही होती है। भोपाल में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव ने एक बार फिर साफ कहा कि स्ट्रांग रूमों में डबल लॉक में रखी ईवीएम की सुरक्षा को लेकर आयोग के निर्देशों का पूरी तरह पालन किया जा रहा है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING