प्रियंका गांधी के लिए 'लकी' नहीं रही बस, कार से करना पड़ रहा है मेगा शो, जाम से बेहाल हुई जनता

सोमवार, 11 फ़रवरी 2019 (16:13 IST)
सक्रिय राजनीति में पदार्पण के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी अपने मिशन-यूपी के तहत सोमवार को पहली बार उत्तर प्रदेश के दौरे पर मेगा रोड शो करने पहुंचीं। रोड शो के कारण जगह-जगह जाम से आम जनता भी परेशान हुई।
 
प्रियंका के साथ उनके भाई कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पार्टी के नवनियुक्त प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया भी थे। यहां प्रियंका गांधी के रोड शो के लिए एक ट्रक तैयार किया गया था, लेकिन एसपीजी ने सुरक्षा कारणों से उसका इस्तेमाल करने से इंकार कर दिया। इसके बाद प्रियंका ने बस से रोड शो किया। बस के बारे में कहा जा रहा था कि यह कांग्रेस के लिए लकी बस है। इस बस का 2017 में पंजाब विधानसभा चुनाव के कैंपेन में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने प्रयोग किया था। इसके बाद वहां पार्टी को ऐतिहासिक जीत मिली थी, लेकिन यह बस भी प्रियंका के रोड शो में ज्यादा आगे नहीं चल सकी। सड़कों पर आने वाले बिजली के तारों ने रोड में बाधाएं खड़ी कीं। इसके बाद आगे का रोड शो एसयूवी में करने का फैसला किया गया। प्रियंका आगे का रोड शो एसयूवी से कर रही हैं।

भाजपा के गढ़ को भेदने की बनेगी रणनीति : देश की सियासत की दिशा तय करने में महती भूमिका निभाने वाले इस सूबे में प्रियंका को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के राजनीतिक प्रतिनिधित्व के बाद भाजपा के गढ़ के रूप में उभरे पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रभारी के तौर पर एक मुश्किल जिम्मेदारी दी गई है। पार्टी सूत्रों की मानें तो प्रियंका चार दिन के प्रवास के दौरान अपने प्रभार वाले लोकसभा क्षेत्रों में पार्टी संगठन को मथने का प्रयास करेंगी।

प्रदेश कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ सोमवार को लखनऊ पहुंचने वाली प्रियंका और ज्योतिरादित्य उत्तर प्रदेश के चार दिन के इस दौरे पर अपने-अपने प्रभार वाले लोकसभा क्षेत्रों के प्रमुख नेताओं से विस्तार से चर्चा करेंगे। उन्होंने दावा किया कि प्रियंका को उत्तर प्रदेश में अहम जिम्मेदारी मिलने से कांग्रेस कार्यकर्ता उत्साह से लबरेज हैं और इससे संगठन को मजबूती से भाजपा का मुकाबला करने में बहुत मदद मिलेगी।

रायबरेली और अमेठी के दायरे से निकलकर पहली बार प्रत्यक्ष रूप से बड़े फलक पर काम करने जा रही प्रियंका के सामने चुनौतियां भी बहुत बड़ी हैं। उन्हें उस पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया गया है, जिसे भाजपा का गढ़ माना जाता है और जहां से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।
जाम से बेहाल हुई नवाबों की नगरी : नवाब की नगरी पहुंचीं पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा का जादू सिर चढ़कर बोला। प्रियंका का इस्तकबाल लखनऊ के बाशिंदों ने गर्मजोशी से किया। हालांकि रोड शो के कारण जमा भीड़ और रूट डायवर्शन के चलते यातायात व्यवस्था अस्त-व्यस्त हो गई। 
 
ऑफिस पहुंचने की जद्दोजहद कर रहे एक निजी कंपनी के अधिकारी मयंक अग्रवाल ने कहा कि सरोजनीनगर से हजरतगंज स्थित ऑफिस जाने के लिए हर रोज की तरह समय पर निकला था लेकिन पुलिस वाले उनकी कार को बदले हुए मार्ग पर जाने को कह रहे हैं। इसके बावजूद जगह-जगह लगे जाम से वे पहले ही एक घंटा लेट हो चुके हैं, इसलिए अब उन्होंने ऑफिस की बजाय घर वापसी का मन बना लिया है। 
 
चारबाग रेलवे स्टेशन पहुंचे पीतल व्यवसायी हरिओम पटेल ने कहा कि 1220 बजे उनकी ट्रेन छूटनी थी, मगर जाम के चलते वे डेढ़ बजे स्टेशन पहुंचे। उनकी ट्रेन तब तक छूट चुकी थी। अब बगैर रिर्जेवेशन के उन्हें किसी अन्य ट्रेन से यात्रा करनी पड़ेगी। कानपुर से आने वाले वाहनों को सरोजनी नगर से डायवर्ट कर दिया गया था जबकि हरदोई और फैजाबाद से आलमबाग की ओर आने वाले वाहनों का भी रूट डायवर्शन किया गया था। रोड शो में शामिल वाहनों के गुजरने के बाद कई मार्गों पर भीषण जाम लग गया जिसे सामान्य करने में पुलिसकर्मियों के पसीने छूट गए। 
 
कांग्रेस नेत्री की एक झलक पाने को बेकरार कार्यकर्ताओं की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सुरक्षाबलों को खासी मशक्कत करनी पड़ी। अमौसी से पार्टी के प्रदेश मुख्यालय के बीच 14 किमी के निर्धारित रूट के दोनों तरफ पार्टी समर्थक ढोल-ताशों के साथ तड़के से ही सड़क के दोनों ओर जमा थे, वहीं पुलिस ने कांग्रेस के रोड शो के चलते सुबह 10 बजे से कई स्थानों पर मार्ग परिवर्तन कर दिया जिसके चलते दफ्तर और अन्य व्यावसायिक स्थलों पर जाने वाले पेशेवरों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। बाराबंकी से आए एक कांग्रेसी समर्थक सफीउल्लाह ने चहकते हुए कहा कि प्रियंका के आने से कांग्रेस को नई जान मिली है। उन्हें भरोसा है कि अगले लोकसभा चुनाव में पार्टी कम से कम 40 सीटों पर विजय हासिल करेगी और इसकी बदौलत केन्द्र से भाजपा का सफाया हो सकेगा।

पोस्टरों से पटा लखनऊ : रोड शो के लिए निर्धारित रूट पर प्रियंका वाड्रा और राहुल गांधी के पोस्टर-बैनरों की बाढ़ देखने को मिली। हर नेता और कार्यकर्ता ने अपनी तस्वीर लगे पोस्टर इस तरह लगाए थे कि शायद प्रियंका की नजर उस पर पड़ जाए और लोकसभा चुनाव के लिए उसका भविष्य संवर जाए। स्वागत से अभिभूत प्रियंका हाथ हिला-हिलाकर जनसमुदाय का अभिवादन स्वीकार कर रही थीं, वहीं जोश में भरे कार्यकर्ता नारेबाजी कर नेताओं की हौसलाफजाई में जुटे थे। 
राफेल से मोदी पर निशाना : रोड शो के दौरान कांग्रेसी नेताओं ने अपने हाथ में राफेल युद्धक विमान की प्रतीतात्मक तस्वीर को ले रखा था जिसके जरिए वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर प्रहार करने से भी नहीं चूक रहे थे। प्रियंका की लोकप्रियता इस कदर हावी थी कि कार्यकर्ताओं की भीड़ पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी और पूर्वी उत्तर प्रदेश के लिए एक अन्य महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया के नारे लगाने के बजाय सिर्फ प्रियंका वाड्रा की हौसलाअफजाई कर रही थी। मंथर गति से चलते कांग्रेसी नेताओं के काफिले पर कई स्थानों पर पुष्पवर्षा की गई। कई चौराहों को आकर्षक तोरण द्वार से सजाया गया था।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING