एनपीए के लिए रघुराम राजन ने यूपीए को ठहराया जिम्मेदर, बढ़ेंगी कांग्रेस की मुश्किलें

Webdunia
मंगलवार, 11 सितम्बर 2018 (10:07 IST)
बैंकों के डूबे कर्ज को लेकर आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने बड़ा बयान दिया है। मुरली मनोहर जोशी की अध्यक्षता वाली संसद की प्राक्कलन समिति को भेजे जवाब में राजन ने घोटालों की जांच में देरी और फैसले लेने में देरी के कारण से बैंकों का डूबा कर्ज (एनपीए) बढ़ता चला गया।
 
 
राजन ने बताया है कि बैंकों ने जोंबी लोन को एनपीए में बदलने से बचाने के लिए ज्यादा लोन दिए। 2006 से पहले बुनियादी क्षेत्र में पैसा लगाना फायदेमंद था। इस दौरान एसबीआई कैप्स और आईडीबीआई बैंकों ने खुले हाथ से कर्ज दिए। बैंकों का अतिआशावादी होना घातक साबित हुआ। लोन देने में सावधानी नहीं रखी गई। इसके साथ ही जितने लाभ की उम्मीद की गई थी, उतना लाभ नहीं हुआ.
 
राजन के बयान से कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ सकती हैं, दरअसल कांग्रेस लगातार मोदी सराकर को बढ़े एनपीए के लिए जिम्मेदार बताती रही है। राजन की नियुक्ति यूपीए सरकार में ही हुई थी ऐसे में बीजेपी कांग्रेस पर हमले का मौका नहीं गंवाएगी।
 
जुलाई में समिति के सामने पेश हुए पूर्व आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने एनपीए संकट से निपटने के लिए पूर्व आरबीआई गवर्नर राजन की तारीफ की थी। सुब्रमण्यम के बयान के बाद ही कमेटी ने राजन को समिति इस विषय में पूरा ब्यौरा देने को कहा था। 2013 से 2016 रिजर्व बैंक के गवर्नर रहे रघुराम राजन इस वक्त शिकागो यूनिवर्सिटी में इकोनॉमिक्स के प्रोफेसर हैं। 

अकेले पड़े तेजप्रताप 'हठ' पर कायम, लालू का परिवार ऐश्वर्या के साथ...

यदि आपके पास ड्राइविंग लाइसेंस नहीं है तो अपनाएं यह प्रक्रिया...

मनोज तिवारी का बयान, सोनिया गांधी अगर छठ करतीं तो राहुल बुद्धिमान पैदा होते...

कब होगी आपकी शादी, क्यों हो रही है देर, जानिए क्या है कारण

13 नवंबर 2018 का राशिफल और उपाय...

सम्बंधित जानकारी

Intelligence Bureau में नौकरी करना चाहते हैं तो जल्दी करें, 1000 से ज्यादा पद

स्मार्ट फोन की बैटरी बचाती है यह तरकीब, गूगल ने बताई

इन खूबियों से लैस है देश की पहली परमाणु पनडुब्बी INS अरिहंत, दुश्मनों को कर देगी नेस्तनाबूद

ई-कॉमर्स कंपनी पर हाईकोर्ट का शिकंजा, नहीं बेच सकेगी नकली सामान

रहमान ने बॉयोग्राफी में खोले राज, 25 साल की उम्र में आते थे खुदकुशी के ख्याल

योगी अब बदलेंगे लखनऊ जू का नाम, नवाब वाजिद अली शाह की जगह होगा अटल बिहारी वाजपेयी प्राणी उद्यान

प्राइवेट कंपनियों के कर्मचारियों को बड़ा 'तोहफा' देने की तैयारी में मोदी सरकार

चंद मिनटों में घर बैठे बन जाएगा PAN CARD, अपनाएं यह आसान प्रक्रिया

कांग्रेस के 'चाणक्य' के आगे बागी हुए सरेंडर, उम्मीदवारों ने ली राहत की सांस

मदरसे में दो भाइयों से गंदा काम करने वाले मौलाना को दस साल की कैद

अगला लेख