पेट्रोल के बढ़ते दाम के लिए वैश्विक कारक जिम्मेदार : एसोचैम

Webdunia
सोमवार, 10 सितम्बर 2018 (17:39 IST)
हैदराबाद। पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों के लिए वैश्विक कारक जिम्मेदार है। उद्योग मंडल एसोचैम ने यह बात कही। उसने उम्मीद जताई है कि ईंधन पर करों के बोझ को घटाया जा सकता है। एसोचैम महासचिव उदय कुमार वर्मा ने कहा कि हमारा मानना है कि पेट्रोल-डीजल को माल एवं सेवाकर (जीएसटी) के दायरे में लाया जाना चाहिए, हालांकि, इस समय यह संभव नहीं है।
 
 
उन्होंने कहा कि इस समय ईंधन के दामों में लगातार वृद्धि की वजह वैश्विक कारक हैं। यह उभरते हुए बाजारों को प्रभावित कर रहा है और भारत भी इससे अछूता नहीं है। वर्मा ने कहा कि अन्य प्रमुख विदेशी मुद्राओं के मुकाबले डॉलर में मजबूती से रुपए पर दबाव पड़ रहा है।
 
भारत कच्चे तेल के सबसे बड़े आयातकों में से एक है जिसके नाते रुपए की विनिमय दर में गिरावट का पेट्रोल-डीजल के दामों पर असर पड़ रहा है। इसके अलावा मजबूत वैश्विक रुख के बीच कच्चे तेल के दामों में भी तेजी आई है। उन्होंने कहा कि हमें भरोसा है कि सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक मामले पर नजर बनाए हुए और कर बोझ को कम करने समेत अन्य विकल्पों पर विचार कर रहा है। (भाषा)

ब्रिटेन में भारतीय मूल की गर्भवती महिला की तीर लगने से मौत, बच्चे को बचाया

इंदौर में कांग्रेस को बड़ी राहत, प्रीति अग्निहोत्री और मोती पटेल नाम वापस लेने को राजी

यूपी के ललितपुर में पिता ने हथौड़े से तीन मासूम बेटियों को मार डाला

बाल दिवस विशेष : गुम हो रहा है बचपन, आखिर कौन है जिम्मेदार?

शिक्षक दिवस पर प्रेरक कहानी : शब्दों का प्रभाव

सम्बंधित जानकारी

Intelligence Bureau में नौकरी करना चाहते हैं तो जल्दी करें, 1000 से ज्यादा पद

स्मार्ट फोन की बैटरी बचाती है यह तरकीब, गूगल ने बताई

नवजात को दूध पिला रही थी मां, बंदर ने छीनकर मार डाला...

अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे पंडित जवाहरलाल नेहरू...

रहमान ने बॉयोग्राफी में खोले राज, 25 साल की उम्र में आते थे खुदकुशी के ख्याल

थरूर बोले, नेहरू की नीतियों की वजह से ही चायवाला प्रधानमंत्री बना

ट्रंप बोले, मैं प्रधानमंत्री मोदी का बहुत सम्मान करता हूं

सीआईएनटीएए ने अभिनेता आलोक नाथ को निष्कासित किया

डोनाल्ड ट्रंप का तीखा हमला, अमेरिका के बिना बर्बाद हो जाता फ्रांस

इंदौर में कांग्रेस को बड़ी राहत, प्रीति अग्निहोत्री और मोती पटेल नाम वापस लेने को राजी

अगला लेख