पेट्रोल के बढ़ते दाम के लिए वैश्विक कारक जिम्मेदार : एसोचैम

Webdunia
सोमवार, 10 सितम्बर 2018 (17:39 IST)
हैदराबाद। पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों के लिए वैश्विक कारक जिम्मेदार है। उद्योग मंडल एसोचैम ने यह बात कही। उसने उम्मीद जताई है कि ईंधन पर करों के बोझ को घटाया जा सकता है। एसोचैम महासचिव उदय कुमार वर्मा ने कहा कि हमारा मानना है कि पेट्रोल-डीजल को माल एवं सेवाकर (जीएसटी) के दायरे में लाया जाना चाहिए, हालांकि, इस समय यह संभव नहीं है।
 
 
उन्होंने कहा कि इस समय ईंधन के दामों में लगातार वृद्धि की वजह वैश्विक कारक हैं। यह उभरते हुए बाजारों को प्रभावित कर रहा है और भारत भी इससे अछूता नहीं है। वर्मा ने कहा कि अन्य प्रमुख विदेशी मुद्राओं के मुकाबले डॉलर में मजबूती से रुपए पर दबाव पड़ रहा है।
 
भारत कच्चे तेल के सबसे बड़े आयातकों में से एक है जिसके नाते रुपए की विनिमय दर में गिरावट का पेट्रोल-डीजल के दामों पर असर पड़ रहा है। इसके अलावा मजबूत वैश्विक रुख के बीच कच्चे तेल के दामों में भी तेजी आई है। उन्होंने कहा कि हमें भरोसा है कि सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक मामले पर नजर बनाए हुए और कर बोझ को कम करने समेत अन्य विकल्पों पर विचार कर रहा है। (भाषा)

यूसी ब्राउजर का भारतीय बाजार में नया वर्जन लांच

लांच हुई नई टीवीएस स्टार सिटी प्लस, कमाल के हैं फीचर्स, 86 किलोमीटर प्रतिलीटर का माइलेज

अमेठी में कार्यकर्ताओं से बोले राहुल, अभी तो शुरुआत है, 2-3 महीने में हम आपको ऐसा ही मजा दिखाएंगे

समंदर में बिकिनी पहन गजब ढाया किम करदाशियां ने, देखिए हॉट फोटो

श्री हनुमान चालीसा

सम्बंधित जानकारी

समंदर के जांबाज नेवी कमांडर अभिषेक टॉमी को बचाया गया

किस करते वक्त इसलिए पति की जीभ काट दी

चौंकाने वाली रिपोर्ट, शराब पीने से हर साल होती है 30 लाख लोगों की मौत

अब जियो टीवी पर देख सकेंगे क्रिकेट मैच

खुशखबर, नौकरी जाने पर मिलेगा पैसा, मोदी सरकार की नई योजना

बंगाल में भाजपा का बंद, प्रदर्शनकारियों ने रोकी ट्रेनें, हेलमेट पहनकर बस चला रहे ड्राइवर

किसकी होगी जयललिता की संपत्ति, कोर्ट सुनाएगा फैसला, जानिए कितनी है संपत्ति...

भाजपा का कार्यकर्ता महाकुंभ 'वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड' में शामिल

सुप्रीम कोर्ट में आज फैसलों का दिन, आधार की वैधता सहित इन बड़े मामलों पर आएंगे फैसले

सुप्रीम कोर्ट आज सुनाएगा आधार पर अहम फैसला

अगला लेख