रुपए की गिरावट कंपनियों की वित्तीय स्थिति के लिए प्रतिकूल पर असर सीमित रहेगा : मूडीज

Webdunia
सोमवार, 10 सितम्बर 2018 (17:28 IST)
नई दिल्ली। डॉलर के मुकाबले रुपए में लगातार गिरावट कंपनियों की वित्तीय साख की दृष्टि से प्रतिकूल है, जो कर्ज तो डॉलर में लेती है, पर जिनकी कमाई रुपए में है। मूडीज इन्वेस्टर सर्विस ने सोमवार को यह बात कही। वर्ष 2018 में रुपया 13 प्रतिशत टूटकर 72.50 प्रति डॉलर से भी नीचे चला गया है।
 
 
मूडीज ने कहा कि वह जिन कंपनियों की वित्तीय साख का निर्धारण करती है उनमें से अधिकतर विदेशी विनिमय दर में उतार-चढ़ाव के जोखिम से अच्छी तरह संरक्षित है। इनमें से कुछ की कमाई डॉलर में है तो कुछ ने इससे बचने के लिए भविष्य के वायदा और विकल्प के सौदों की ओट ले रखी है।
 
मूडीज भारत में उच्च निवेश श्रेणी की 24 कंपनियों की रेटिंग करती है। इनमें से 12 अपना ज्यादातर राजस्व डॉलर में अर्जित करती हैं। इन 24 कंपनियों में आईटी, तेल एवं गैस, रसायन, वाहन, जिंस, इस्पात और रीयल एस्टेट क्षेत्र की कंपनियां शामिल हैं। मूडीज ने कहा है कि रुपए में लगातार गिरावट का विशेषरूप से उन कंपनियों की वित्तीय स्थिति प्रभावित होगी जिनका ऋणभार डॉलर ऋण में है, पर कमाई रुपए में है। (भाषा)

अकेले पड़े तेजप्रताप 'हठ' पर कायम, लालू का परिवार ऐश्वर्या के साथ...

सरदार वल्लभ भाई पटेल पर हिन्दी निबंध

राजस्थान में टिकट नहीं मिलने से मंत्री नाराज, भाजपा का दामन छोड़ा

कब होगी आपकी शादी, क्यों हो रही है देर, जानिए क्या है कारण

13 नवंबर 2018 का राशिफल और उपाय...

सम्बंधित जानकारी

Intelligence Bureau में नौकरी करना चाहते हैं तो जल्दी करें, 1000 से ज्यादा पद

स्मार्ट फोन की बैटरी बचाती है यह तरकीब, गूगल ने बताई

इन खूबियों से लैस है देश की पहली परमाणु पनडुब्बी INS अरिहंत, दुश्मनों को कर देगी नेस्तनाबूद

ई-कॉमर्स कंपनी पर हाईकोर्ट का शिकंजा, नहीं बेच सकेगी नकली सामान

रहमान ने बॉयोग्राफी में खोले राज, 25 साल की उम्र में आते थे खुदकुशी के ख्याल

नाम बदलने के बाद अयोध्या में मांस और शराब की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी में योगी सरकार

राफेल डील पर डसॉल्ट CEO एरिक का बयान, उलटा पड़ सकता है राहुल गांधी का दांव

शक्ति पम्पस को दूसरी तिमाही में 9.27 करोड़ रुपए मुनाफा

योगी अब बदलेंगे लखनऊ जू का नाम, नवाब वाजिद अली शाह की जगह होगा अटल बिहारी वाजपेयी प्राणी उद्यान

प्राइवेट कंपनियों के कर्मचारियों को बड़ा 'तोहफा' देने की तैयारी में मोदी सरकार

अगला लेख