रुपए की गिरावट कंपनियों की वित्तीय स्थिति के लिए प्रतिकूल पर असर सीमित रहेगा : मूडीज

Webdunia
सोमवार, 10 सितम्बर 2018 (17:28 IST)
नई दिल्ली। डॉलर के मुकाबले रुपए में लगातार गिरावट कंपनियों की वित्तीय साख की दृष्टि से प्रतिकूल है, जो कर्ज तो डॉलर में लेती है, पर जिनकी कमाई रुपए में है। मूडीज इन्वेस्टर सर्विस ने सोमवार को यह बात कही। वर्ष 2018 में रुपया 13 प्रतिशत टूटकर 72.50 प्रति डॉलर से भी नीचे चला गया है।
 
 
मूडीज ने कहा कि वह जिन कंपनियों की वित्तीय साख का निर्धारण करती है उनमें से अधिकतर विदेशी विनिमय दर में उतार-चढ़ाव के जोखिम से अच्छी तरह संरक्षित है। इनमें से कुछ की कमाई डॉलर में है तो कुछ ने इससे बचने के लिए भविष्य के वायदा और विकल्प के सौदों की ओट ले रखी है।
 
मूडीज भारत में उच्च निवेश श्रेणी की 24 कंपनियों की रेटिंग करती है। इनमें से 12 अपना ज्यादातर राजस्व डॉलर में अर्जित करती हैं। इन 24 कंपनियों में आईटी, तेल एवं गैस, रसायन, वाहन, जिंस, इस्पात और रीयल एस्टेट क्षेत्र की कंपनियां शामिल हैं। मूडीज ने कहा है कि रुपए में लगातार गिरावट का विशेषरूप से उन कंपनियों की वित्तीय स्थिति प्रभावित होगी जिनका ऋणभार डॉलर ऋण में है, पर कमाई रुपए में है। (भाषा)

भारत रत्न के बारे में संपूर्ण जानकारी

दिमाग में छिपा है ऑस्टियोपोरोसिस का इलाज, मिल सकेगी ‘चमत्कारी’ सफलता

भारत के धनकुबरों की संपत्ति में प्रतिदिन 2200 करोड़ रुपए का इजाफा...

करवा चौथ पर 6 मजेदार चुटकुले

इस साल तो शादी होकर ही रहेगी, गुरुवार के यह 6 विवाह टोटके देंगे कामयाबी

सम्बंधित जानकारी

K9 वज्र पर सवार हुए पीएम मोदी, देश की पहली तोप जिसे भारतीय प्राइवेट सेक्टर ने बनाया...

नरेन्द्र मोदी सरकार ने पूरा किया पाकिस्तान का सपना

अं‍तरिम बजट में मोदी सरकार दे सकती है ये बड़े तोहफे

राफेल सौदे पर दाम बढ़ाने संबंधी रिपोर्ट 'बकवास' : अरुण जेटली

सवारी गाड़ियों के स्‍थान पर रेलवे चला सकती है मेमू ट्रेन, जानिए क्या है इसकी रफ्तार

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार का बड़ा ऐलान, साधु-संतों को मिलेगी पेंशन

काबुल में खतरनाक स्तर पर पहुंचा वायु प्रदूषण, सांस लेने में हो रही तकलीफ

सरकार का कामकाज ठप होने पर लेडी गागा के निशाने पर ट्रंप और पेंस...

नए गेम ऐप से बढ़ेगी एकाग्रता, शोधकर्ताओं ने विकसित किया 'डीकोडर'

भारत के धनकुबरों की संपत्ति में प्रतिदिन 2200 करोड़ रुपए का इजाफा...

अगला लेख