अमेरिका के पहले सिख अमेरिकी अटॉर्नी जनरल पर नस्ली टिप्पणी, दो रेडियो जॉकी निलंबित

शुक्रवार, 27 जुलाई 2018 (11:50 IST)
न्यूयॉर्क। अमेरिका के पहले सिख अमेरिकी अटॉर्नी जनरल गुरबीर ग्रेवाल को दो रेडियो प्रस्तोताओं द्वारा नस्ली टिप्पणी का शिकार होना पड़ा जिन्होंने कार्यक्रम में बार-बार उन्हें ‘पगड़ीधारी व्यक्ति’ कहा। इसकी राजनेताओं और दूसरे नागरिकों ने काफी आलोचना की है।
 
एनजे 101.5 एफएम पर ‘डेनिस एंड जुडी शो’ प्रस्तुत करने वाले डेनिस मॉलॉय और जुडी फ्रेंको ने मारिजुआना से जुड़े मामले पर अभियोजन निलंबित करने के ग्रेवाल के फैसले पर कार्यक्रम के दौरान चर्चा करते हुए उन्हें ‘पगड़ीधारी व्यक्ति’ के तौर संबोधित किया।
 
मॉलॉय ने कहा कि आप अटॉर्नी जनरल को जानते हैं? मैं उनका नाम कभी पता नहीं करूंगा। मैं सिर्फ उन्हें पगड़ी पहना हुआ व्यक्ति कहूंगा। फ्रेंको ने बार-बार गाना गाने के अंदाज में इस शब्द का इस्तेमाल किया। 
मॉलॉय ने कहा कि अगर आप इससे आहत होते हैं तो आप पगड़ी मत पहिनए। 
 
मामले पर क्या बोले अटॉनी जनरल ग्रेवाल : ग्रेवाल (44) ने हालांकि इस पर कड़ी प्रतिक्रिया करते हुए कहा कि वह न्यूजर्सी के 61वें अटॉर्नी जनरल हैं। उन्होंने ट्वीट किया, 'मैं एक सिख अमेरिकी हूं। मेरी तीन बेटियां हैं। और कल, मैंने उनसे कहा कि रेडियो बंद कर दो।'
 
ग्रेवाल ने अपने निजी ट्विटर अकांउट पर लिखा, 'यह पहला अनादर नहीं है जिसका मैंने सामना किया है और यह संभवत: आखिरी भी नहीं होगा। कई बार मैं अकेले इसे सहता हूं। कल पूरे न्यूजर्सी ने इसे सुना। समय है कि अब संकीर्ण असहिष्णुता को समाप्त किया जाए।' 
 

This is not the first indignity I’ve faced and it probably won’t be the last. Sometimes, I endure it alone. Yesterday, all of New Jersey heard it. It’s time to end small-minded intolerance. It’s an issue I addressed at @APAICS conference this May: pic.twitter.com/XnxJp53cxv

— Gurbir S. Grewal (@GurbirGrewalNJ) July 26, 2018
न्यूजर्सी के गर्वनर भी नाराज : के ग्रेवाल की नियुक्ति करने वाले न्यूजर्सी के गर्वनर फिल मर्फी ने रेडियो प्रस्तोताओं की भाषा की कड़ी निंदा की और रेडियो स्टेशन से उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की।
 
मर्फी ने ट्वीट किया कि नफरत फैलाने वाले टिप्पणियों के लिए न्यूजर्सी में कोई जगह नहीं है। इसका संबंध हमारे रेडियो से नहीं है। रेडियो स्टेशन प्रबंधन को प्रस्तोताओं को इन असहिष्णु और नस्ली टिप्पणियों के लिए जवाबदेह ठहराना चाहिए।
 
रेडियो स्टेशन ने बाद में ट्वीट करके कहा कि वह प्रसारण के दौरान मॉलॉय और फ्रेंको की अपमानजनक टिप्पणियों से वाकिफ है। रेडियो स्टेशन ने कहा कि हमने तत्काल कार्रवाई करते हुए दोनों को निलंबित कर दिया है और अगले नोटिस तक उनके कार्यक्रम प्रस्तुत करने पर रोक लगा दी है। हम मामले की जांच कर रहे हैं। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING