तालिबान को अफगानिस्तान का संघर्षविराम प्रस्ताव नामंजूर

सोमवार, 20 अगस्त 2018 (22:50 IST)
काबुल। तालिबान ने सोमवार को अफगानिस्तान की सरकार को संघर्षविराम का प्रस्ताव को खारिज करते हुए 3 बसों में यात्रा कर रहे करीब 200 लोगों का अपहरण कर लिया। तालिबान के 2 कमांडरों ने कहा कि उनके सर्वोच्च नेतृत्व ने राष्ट्रपति अशरफ गनी के रविवार को प्रस्तावित 3 माह के संघर्षविराम को नामंजूर कर दिया है। तालिबान हमले जारी रखेगा। प्रस्तावित संघर्षविराम की शुरुआत ईद-अल-अजहा से होनी थी।
 
 
तालिबानी कमांडर ने कहा कि जून में किए गए संघर्षविराम से केवल अमेरिकी सेनाओं को फायदा पहुंचा जिसे तालिबान, अफगानिस्तान से बाहर करने की कोशिश कर रहा है। तालिबान नेता शेख हैबातुल्ला अखुनजादा ने इसी आधार पर संघर्षविराम के प्रस्ताव को खारिज किया है कि इससे केवल अमेरिकी नेतृत्व वाले मिशन को ही फायदा होगा।
 
तालिबानी कमांडर ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा कि हमारे नेतृत्व का मानना है कि अगर हम संघर्षविराम की घोषणा करते है तो अमेरिका लंबे समय तक अफगानिस्तान में बना रहेगा। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति कार्यालय ने कहा कि तालिबान यदि सरकार द्वारा प्रस्तावित सशर्त संघर्षविराम का सम्मान नहीं करेगा तो सरकार अपना सैन्य अभियान जारी रखेगी।
 
तालिबान का यह बयान ऐसे समय में आया है, जब अफगानिस्तान सरकार उत्तरी प्रांत कुंदुज से तालिबान द्वारा अपहृत कम से कम 170 नागरिकों, सुरक्षा बलों के 20 जवानों की रिहाई सुनिश्चित करने के लिए प्रयास कर रही है। काबुल के गृह मंत्रालय एक अधिकारी ने कहा कि सरकार के अधिकारी तकरीबन 200 बंधकों की रिहाई के लिए कुंदुज में तालिबानी नेताओं से बात कर रहे हैं। अधिकारी ने कहा कि हम सभी यात्रियों की मुक्त करवाने के लिए अपने सर्वोच्च प्रयास कर रहे हैं।
 
कुंदुज गवर्नर के प्रवक्ता एस्मातुल्लाह मुरादी ने बताया कि तखार प्रांत से काबुल आ रही 3 बसों को तालिबान आतंकवादियों ने कुंदुज में रोककर उसमें सवार यात्रियों का अपहरण कर लिया।
मुरादी ने कहा कि बस को तालिबान के आतंकवादियों ने रोका। यात्रियों को बलपूर्वक बसों से उतार लिया गया। अपहृत यात्रियों को किसी अज्ञात स्थान की ओर ले जाया गया।
 
तालिबान ने अपहरण की जिम्मेदारी लेते हुए इस घटना की पुष्टि की है। तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने कहा कि हमें खुफिया जानकारी मिली थी कि अफगानिस्तान के सुरक्षा बलों के जवान काबुल जा रहे हैं। इसके बाद हमने अपहरण करने का निर्णय लिया। अपहरण के बाद हम बस को एक सुरक्षित स्थान पर ले गए। अब हम सुरक्षा बल के जवानों की पहचान कर रहे हैं। प्रवक्ता ने कहा आम नागरिकों को रिहा कर दिया जाएगा।
 
कुंदुज के प्रांतीय परिषद के सदस्य सैयद असदुल्लाह सदत ने कहा कि बस में सवार लोग अपने परिवार के साथ छुट्टियां मनाने काबुल जा रहे थे। तालिबान ने पिछले कुछ दिनों में अफगानिस्तान में कई आतंकवादी हमलों को अंजाम दिया है जिसमें काबुल के दक्षिण-पश्चिम में गजनी शहर पर किया गया हमला भी शामिल है जिसमें सैकड़ों लोगों की मौत हो गई थी। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING