रोट तीज विशेष रेसिपी : आज खीर, रोट और तुरई की सब्जी होगी हर घर का व्यंजन...

राजश्री कासलीवाल
भाद्रपद शुक्ल तृतीया यानी रोट तीज के दिन जैन समाज में बनाया जाने वाला यह एक विशेष व्यंजन है, जो सभी घरों में रोट तीज के दिन बनाया जाता है।

इस दिन रोट के साथ खासकर तुरई की सब्जी और चावल की खीर ही बनाई जाती है, जिसका जैन धर्म में बहुत महत्व है।
 
शाही बासमती खीर 
 
सामग्री : 
2 लीटर दूध, बासमती चावल दो मुट्ठी, पाव कटोरी बादाम-पिस्ता व काजू की कतरन, चार बड़े चम्मच शक्कर, आधा चम्मच पिसी इलायची, 3-4 लच्छे केसर दूध में भीगे हुए। 
 
विधि : 
खीर बनाने से एक-दो घंटे पूर्व चावल धोकर पानी में गला दें। दूध को मोटे तले वाले बर्तन में डालकर गैस पर चढ़ा दें। चार-पांच उबाल लें। अब चावल का पूरा पानी निथार कर दूध में डाल दें। बीच-बीच में चलाती रहें और गाढ़ा होने तक पकाएं। 
 
चावल पकने के बाद शक्कर डाल दें और शक्कर पिघलने तक लगातार चलाती रहें। बीच में छोड़े नहीं। अब इसमें मेवे की कतरन और पिसी इलायची डाल दें। अब कटोरी में रखी भीगी केसर डालकर हिला लें। खीर अच्छी गाढ़ी होने के पश्चात आंच से उतार कर गरमा-गरम शाही बासमती खीर पेश करें। 
 
*****
 
गेहूं के रोट
 
सामग्री :
500 ग्राम गेहूं का मोटा पिसा हुआ आटा, 2 चम्मच अजवाइन, 2 बड़े चम्मच घी, नमक स्वादानुसार, गुनगुना पानी।
 
विधि :
सबसे पहले गेहूं के आटे को छान लें। तत्पश्चात उसमें नमक, अजवाइन और घी का मोयन देकर अच्छी तरह मिलाकर कड़ा आटा गूंथ लें। इसे गूंथने के बाद एकाध घंटा ढंककर रख दें। अब तैयार आटे की मोटी लोई बनाकर बिना पलोथन लगाए मोटे रोट (मोटी रोटी) बेल लें।
 
अब रोटी के किनारों पर हाथ से गुझिए की तरह डिजाइन बना दें। बाद में चम्मच या चाकू की सहायता से रोट के मध्य में चार-पांच जगह छेद कर दें। फिर इस रोट को तवे पर अधपके सेंक कर चूल्हे पर धीमी आंच में अच्छी तरह से सेंक लें। दोनों ओर से अच्छी तरह सेंकने के बाद ज्यादा घी लगाकर खीर, तुरई की सब्जी के साथ परोसें। 
 
*****
 
तोरई (तुरई) की सब्जी 
 
सामग्री : 
250 ग्राम तोरई (तुरई, तोरु), 2 बड़े टमाटर, 1 चम्मच पिसी लाल मिर्च, 1/2 चम्मच हल्दी, 2 चम्मच पिसा धनिया, 1 चम्मच राई-जीरा, एक चुटकी हींग, 2 बड़े चम्मच तेल, नमक स्वादानुसार, हरा धनिया।
 
विधि :
सबसे पहले तुरई को छीलकर उसको लंबे-लंबे टुकड़ों में सुधार लें। टमाटर की प्यूरी तैयार कर लें। अब कड़ाही में तेल गर्म करके राई-जीरे का छौंक लगाएं और हींग डालकर टमाटर की प्यूरी डाल दें। 
 
‍तेल छोड़ने तक प्यूरी को अच्छी तरह हिलाते रहे। उसके बाद उपरोक्त मसाला डालकर टमाटर की ग्रेवी बना लें। अब थोड़ा पानी और तुरई डालकर अच्छी तरह पकने दें। जितनी गाढ़ी या पतली रखनी चाहे वह अपने हिसाब से रख लें। अच्छी तरह पक जाने पर हरा धनिया डालें और गरमा-गरम रोट के साथ तुरई की शाही सब्जी पेश करें। 
 
***** 
 
चटपटा हरी मिर्च का छुंदा
 
सामग्री : 
100 ग्राम हरी मिर्च, 1 बड़ा चम्मच तेल, चुटकी भर हल्दी व हींग, थोड़ा-सा जीरा, नमक व एक नींबू।
 
विधि :
हरी मिर्च के डंठल तोड़ कर धोकर रख लें। तत्पश्चात कडा़ही में तेल गरम कर उसमें मिर्च डाल दें और गैस की आंच धीमी करके उसे प्लेट से ढंक दें। दो मिनट बाद सभी मिर्च को पलट दें। पांच मिनट बाद गैस बंद कर दें।
 
तली मिर्च थोड़ी ठंडी होने के बाद उसका बचा तेल एक अलग कटोरी में निकाल दें। अब उसमें हींग, नमक व जीरा डालकर उसे बारीक पीस लें। ऊपर से नींबू निचोड़ कर सर्व करें।
 
 
***** 

बार-बार पेशाब आने के 5 कारण और उपाय

स्वामी विवेकानंद : प्रेरक प्रसंग

ध्यान में कुछ खास बातें...

रावण की पत्नी मंदोदरी ने क्यों किया वि‍भीषण से विवाह?

मुसीबत में फंस सकते हैं बल्क में साड़ी, कपड़े खरीदने और बेचने वाले

सम्बंधित जानकारी

डायबिटीज रोगियों के लिए बेहद जरूरी हैं ये 20 टिप्स

डायबिटीज के लिए 10 असरकारी घरेलू नुस्खे...

सावधान, सर्दी में संभल कर करें परफ्यूम का इस्तेमाल, ये रहा कारण

सर्द मौसम में रखेंगे ख्याल, योगासन और प्राणायाम, ये रहे 8 बेहतरीन टिप्स

सर्दियों में ये 5 घरेलू चीजें, त्वचा को प्राकृतिक नमी देंगी और रूखेपन से बचाएंगी

च्यवन ऋषि फिर से हुए थे जवान इस दिन, पढ़ें आंवला नवमी की 10 खास बातें

प्लास्टिक के बर्तनों में लगे दाग-धब्बों से परेशान हैं? तो आजमाएं ये कारगर उपाय

17 नवंबर को कौन से अत्यंत शुभ योग में मनेगी आंवला नवमी, करेगी हर इच्छा पूरी

कई युगों से पवित्र है अक्षय नवमी की शुभ तिथि, जानिए कितने रहस्य छुपे हैं आंवले में

देवउठनी एकादशी पर इस विशेष आरती से होते हैं भगवान इतने प्रसन्न कि हर एकादशी का पुण्य दे देते हैं...

अगला लेख