कविता : हिन्दी ही पहचान हमारी

संजय जोशी 'सजग'
हम सबकी प्यारी,
लगती सबसे न्यारी।
 
कश्मीर से कन्याकुमारी,
राष्ट्रभाषा हमारी।
 
साहित्य की फुलवारी,
सरल-सुबोध पर है भारी।
 
अंग्रेजी से जंग जारी,
सम्मान की है अधिकारी।
 
जन-जन की हो दुलारी,
हिन्दी ही पहचान हमारी।

ALSO READ: हिन्दी भाषा पर कविता : हम सब मिलकर दें सम्मान

हरी मिर्च के 13 बेहतरीन फायदे, आपको जरूर जानना चाहिए

कहानी : अपनी तुलना दूसरों से न करें

महान समाज सुधारक सावित्रीबाई फुले

श्री हनुमान चालीसा

सिद्धार्थ मल्होत्रा के हाथ से निकल गई बड़ी फिल्म, महंगा पड़ा ब्रेक-अप

सम्बंधित जानकारी

ब्लीच से पाना है दोगुना निखार तो इन 10 बातों का रखें ध्यान

केले का हलवा : पौष्टिक, स्वादिष्ट और बनाने में आसान, यहां पढ़ें 7 स्टेप्स...

क्या आपको भी ऑफिस में नींद आती है? जानिए क्या है वजह

पानी गलत समय पर पीने से होती हैं, पेट से जुड़ी 8 बीमारियां...

सेहत और सौन्दर्य को बनाए रखना है तो डाइट में जरूर शामिल करें ये 7 पेय पदार्थ

न्यूजीलैंड में भारतीय महिला को 33 हजार डॉलर का चूना लगाया

संघ की दस्तक सुनें

अमेरिका में ट्रंप की पार्टी ने हिंदुओं से मांगी माफी, जानिए क्या है वजह

नियम से करेंगे ये 12 काम, तो आप बन सकते हैं धनवान...

मेवे से भरे शाही मोदक बनाने की आसान वि‍धि

अगला लेख