कविता : हिन्दी ही पहचान हमारी

संजय जोशी 'सजग'
हम सबकी प्यारी,
लगती सबसे न्यारी।
 
कश्मीर से कन्याकुमारी,
राष्ट्रभाषा हमारी।
 
साहित्य की फुलवारी,
सरल-सुबोध पर है भारी।
 
अंग्रेजी से जंग जारी,
सम्मान की है अधिकारी।
 
जन-जन की हो दुलारी,
हिन्दी ही पहचान हमारी।

ALSO READ: हिन्दी भाषा पर कविता : हम सब मिलकर दें सम्मान

कविता : भारत की पहचान

ओवेरियन सिस्ट का पक्का इलाज बस 1 दवा , जानिए और भी फायदे

कौन अच्छा, कौन बुरा?

रावण की पत्नी मंदोदरी ने क्यों किया वि‍भीषण से विवाह?

रजनीकांत के घर बजने वाली है शहनाई, गुपचुप कर ली सगाई

सम्बंधित जानकारी

डायबिटीज रोगियों के लिए बेहद जरूरी हैं ये 20 टिप्स

डायबिटीज के लिए 10 असरकारी घरेलू नुस्खे...

सावधान, सर्दी में संभल कर करें परफ्यूम का इस्तेमाल, ये रहा कारण

सर्द मौसम में रखेंगे ख्याल, योगासन और प्राणायाम, ये रहे 8 बेहतरीन टिप्स

सर्दियों में ये 5 घरेलू चीजें, त्वचा को प्राकृतिक नमी देंगी और रूखेपन से बचाएंगी

च्यवन ऋषि फिर से हुए थे जवान इस दिन, पढ़ें आंवला नवमी की 10 खास बातें

प्लास्टिक के बर्तनों में लगे दाग-धब्बों से परेशान हैं? तो आजमाएं ये कारगर उपाय

17 नवंबर को कौन से अत्यंत शुभ योग में मनेगी आंवला नवमी, करेगी हर इच्छा पूरी

कई युगों से पवित्र है अक्षय नवमी की शुभ तिथि, जानिए कितने रहस्य छुपे हैं आंवले में

देवउठनी एकादशी पर इस विशेष आरती से होते हैं भगवान इतने प्रसन्न कि हर एकादशी का पुण्य दे देते हैं...

अगला लेख