कविता : हिन्दी ही पहचान हमारी

हम सबकी प्यारी,
लगती सबसे न्यारी।
 
कश्मीर से कन्याकुमारी,
राष्ट्रभाषा हमारी।
 
साहित्य की फुलवारी,
सरल-सुबोध पर है भारी।
 
अंग्रेजी से जंग जारी,
सम्मान की है अधिकारी।
 
जन-जन की हो दुलारी,
हिन्दी ही पहचान हमारी।

ALSO READ: हिन्दी भाषा पर कविता : हम सब मिलकर दें सम्मान

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING