हिन्दी भाषा पर कविता : हम सब मिलकर दें सम्मान

संजय जोशी 'सजग'
भाषा जब सहज बहती,
संस्कृति, प्रकृति संग चलती।
 
भाषा-सभ्यता की संपदा,
सरल रहती अभिव्यक्ति सर्वदा।
 
कम्प्यूटर के युग के दौर में,
थोपी जा रही अंग्रेजी शोर में।
 
आधुनिकता की कहते इसे जान,
छीन रहे हैं हिन्दी का रोज मान।
 
हम सब मिलकर दें सम्मान,
निज भाषा पर करें अभिमान।
 
हिदुस्तान के मस्तक की बिंदी
जन-जन की आत्मा बने हिन्दी।
 
हिन्दी के प्रति होंगे हम 'सजग'
राष्ट्रभाषा को मानेगा सारा जग।

तालाब को सजा न सुनाएं

लीची : स्वाद में कमाल, सेहत बेमिसाल, पढ़ें 8 फायदे

चाणक्य नीति की छ: बातें, जो आपको मालूम होनी चाहिए...

बीवी को पता चल गया तो : हंसी नहीं रोक पाओगे इस चुटकुले को पढ़कर

अगर करीना कपूर हुई दूसरी बार प्रेग्नेंट तो देश छोड़ देगी यह एक्ट्रेस!

सम्बंधित जानकारी

संतरे के छिलके में छुपे हैं खूबसूरती बढ़ाने के बेहतरीन गुण

बिना दर्द सहे, घर पर ही अपर लिप्स के बालों को हटाने के घरेलू नुस्खे

प्रवासी कविता : मुसाफिरखाना

हाइपरटेंशन दूर करना हैं? तो सर्दियों के इस मौसम में जरूर खाएं ये 5 चीजें

जानिए, किन कारणों से शरीर में कैल्शि‍यम हो जाता है कम

डरे और थके हुए प्रधानमंत्री का हताशा और घबराहटभरा भाषण

बढ़ती उम्र संबंधी बीमारियों से बचना है तो करें उपवास

कविता : झकझोरकर मुझे हवा ने

आइब्रो को घना बनाना चाहती हैं? तो ये रहे 5 असरदार उपाय

सेहत और वजन बुरी तरह से होगा प्रभावित, अगर रात को खा ली ये 8 चीजें

अगला लेख