हिन्दी भाषा पर कविता : हम सब मिलकर दें सम्मान

संजय जोशी 'सजग'
भाषा जब सहज बहती,
संस्कृति, प्रकृति संग चलती।
 
भाषा-सभ्यता की संपदा,
सरल रहती अभिव्यक्ति सर्वदा।
 
कम्प्यूटर के युग के दौर में,
थोपी जा रही अंग्रेजी शोर में।
 
आधुनिकता की कहते इसे जान,
छीन रहे हैं हिन्दी का रोज मान।
 
हम सब मिलकर दें सम्मान,
निज भाषा पर करें अभिमान।
 
हिदुस्तान के मस्तक की बिंदी
जन-जन की आत्मा बने हिन्दी।
 
हिन्दी के प्रति होंगे हम 'सजग'
राष्ट्रभाषा को मानेगा सारा जग।

बाल दिवस विशेष : गुम हो रहा है बचपन, आखिर कौन है जिम्मेदार?

शिक्षक दिवस पर प्रेरक कहानी : शब्दों का प्रभाव

बाल दिवस : चाचा नेहरू की प्रेरक कहानियां

ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान के फ्लॉप होने के 5 कारण

14 नवंबर : बाल दिवस पर निबंध

सम्बंधित जानकारी

हेल्थ और ब्यूटी के 10 फायदों के लिए, जरूर कीजिए ओट्स का इस्तेमाल

सर्दी के दिनों में फायदेमंद हैं स्पाइसी सिनेमन कॉफी, ये रहे 5 सरल टिप्स, आप भी आजमाएं

सावधान, बदलते मौसम में महिलाओं ने नहीं बरती सावधानी तो लापरवाही पड़ेगी महंगी

फूड पॉइजनिंग के शिकार हो जाएं, तो अपनाएं आसान घरेलू उपाय

जानिए क्या होती है चेहरे की झाइयां, इसके कारण और प्रकार

डायबिटीज रोगियों के लिए बेहद जरूरी हैं ये 20 टिप्स

बाल दिवस पर बच्चों के लिए 5 मजेदार चुटकुले

डायबिटीज के लिए 10 असरकारी घरेलू नुस्खे...

विश्व मधुमेह दिवस : 5 में से 1 व्यक्ति को है मधुमेह, जानिए क्या है यह बीमारी...

सावधान, सर्दी में संभल कर करें परफ्यूम का इस्तेमाल, ये रहा कारण

अगला लेख