बहुत देर तक बैठे रहते हैं तो इन 8 बड़ी बीमारियों को आप दे रहे हैं बुलावा, जानिए क्या करें बचने के लिए

Webdunia
लंबे समय तक बैठने से भी हमारे शरीर में कुछ ऐसे परिवर्तन होने लगते हैं जो कि हानिकारक होते हैं। भले ही हम इन पर गौर न कर पाते हैं। उदाहरण के लिए अगर हम टीवी के सामने लम्बे समय तक बैठे रहते हैं तो यह भी हानिकारक है और इससे व्यक्ति कई तरह बीमारियों का शिकार हो सकता है। 
 
आमतौर पर हम दफ्तरों में करीब 8-10 घंटे तक कम्प्यूटर के सामने बैठे रहते हैं और यह स्थिति निरापद नहीं है क्योंकि इस कारण से आपके सिर से लेकर पैर तक बीमारियां अपनी मौजूदगी बना सकती हैं। 
 
1 .हाई ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल : लम्बे समय तक बैठने से विभिन्न अंगों को नुकसान हो सकता है। लंबे समय तक बैठे रहने से उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) की समस्या हो सकती है और कोलेस्ट्रॉल बढ़ सकता है। बिल्कुल नहीं या बहुत कम बैठने वाले लोगों की तुलना में ज्यादा समय तक बैठने वालों को इन बीमारियों के होने की दोगुनी आशंका होती है।
 
2. अग्नाशय या पाचक ग्रंथि में बदलाव : लंबे समय तक एक जैसी स्थिति में बैठे रहने से अग्नाशय या पाचक ग्रंथि अधिक सक्रिय हो जाती है और इस कारण से अधिक इंसुलिन पैदा करता है। 
 
इस हॉर्मोन से कोशिकाओं को ग्लूकोज के तौर पर एक उर्जा स्रोत पहुंचाए जाने का काम होता है, लेकिन चूंकि ऐसी अवस्था में मांसपेशियों की कोशिकाएं निष्क्रिय होती हैं इसलिए इंसुलिन को प्रयोग में नहीं ला पाता है। इसके चलते ऐसी स्थिति पैदा हो जाती है कि इंसुलिन की अधिकता से मधुमेह और अन्य बीमारियां पैदा हो जाती हैं।
 
3. कोलोन कैंसर का खतरा : कई अध्ययनों से इस बात की भी संभावना है कि लंबे समय तक बैठे रहने से कोलोन कैंसर को भी दावत मिलती है। इतना ही नहीं, किन्हीं कारणों से स्तन और अन्तर्गर्भाशयकला(एन्डोमेट्रीअल) कैंसर होने का भी खतरा बना रहता है।
 
4.मांसपेशियों में कमजोरी : जब आप खड़े होते हैं या किसी भी गतिविधि में सक्रिय होते हैं तो मांसपेशियां सक्रिय बनी रहती हैं, लेकिन जब आप केवल बैठे रहते हैं तो पीठ और पेट की मांसपेशियां ढीली पड़ने लगती हैं। इसी स्थिति के चलते आपके कूल्हे और पैरों की मांशपेशियां कमजोर पड़ने लगती हैं।
 
लंबे समय तक एक स्थिति में बैठने का परिणाम यह भी हो सकता है कि आपकी रीढ़ की हड्‍डी भी पूरी तरह से सीधी न रह सके। इसी के परिणाम स्वरूप कूल्हे और पैरों की सक्रियता प्रभावित होती है और ये अंग सख्त होते जाते हैं और इनकी स्वाभाविक नमनीयता खत्म होने लगती है।
 
5. ऑस्टियोपोरोसिस : लंबे समय तक बैठे रहने से लोगों का वजन भी बढ़ता है और इसके परिणामस्वरूप कूल्हे और इसके नीचे के अंगों की हड्‍डियां कमजोर हो जाती हैं।

शारीरिक सक्रियता की कमी के कारण ही ऑस्टियोपोरोसिस या अस्थि-सुषिरता जैसी बीमारियां आम होती जा रही हैं।
 
6. दिमाग पर असर : लंबे समय तक बैठे रहने से मस्तिष्क भी प्रभावित होता है और इसकी कार्यप्रणाली भी अस्पष्ट तथा धीमी हो जाती है। मांसपेशियों की सक्रियता से मस्तिष्क में ताजा खून और ऑक्सीजन की मात्रा पहुंचती है, जिसके ऐसे रसायन उत्पन्न होते हैं जोकि दिमाग को सक्रिय बनाए रखते हैं लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो मस्तिष्क की क्षमता पर भी विपरीत असर पढ़ता है।
 
7. गर्दन में तनाव : लंबे समय तक कम्प्यूटर पर बैठने या टाइप करने से गर्दन भी सख्त हो जाती है।

इस अस्वाभाविक हालत का परिणाम यह होता है कि गर्दन में तनाव पैदा हो जाती है। इसके कारण कंधों और पीठ में भी दर्द होने लगता है।
 
8. पीठ पर बुरा असर : एक जैसी स्थिति में बैठे रहने से रीढ़ की हड्‍डी की नमनीयता की विशेषता दुष्प्रभावित होती है और इसमें डिस्क क्षतिग्रस्त भी हो सकते हैं। 
 
इसलिए सही अवस्था में बैठने के लिए यह उपाय करने चाहिए।
 
* बैठे रहने की स्थिति में आगे की ओर झुककर ना बैठें।
* कंधों को जहां तक हो सके रिलेक्स्ड स्थिति में रखें।
* अपने हाथों को साइड में रखें।
* बैठकर काम करते समय आपकी कोहनियों को समकोण की स्थिति में होना चाहिए।
* पीठ के निचले हिस्से को सहारा दें।
* अपने पैरों को धरातल पर समतल हालत में रखें।
 
टीवी के सामने बैठना क्यों है घातक... 
 
टीवी के सामने बैठना घातक : टीवी देखने के लिए लंबे समय तक बैठे रहना भी घातक होता है। यह स्थिति भी इतनी घातक हो सकती है कि इससे मनुष्य की मौत की संभावनाएं भी बढ़ जाती हैं। अगर आप दिन में एक से दो घंटे तक टीवी देखते हैं तो इससे आपकी मृत्यु की संभावनाओं में 4 फीसदी तक बढोतरी होती है।
 
अगर आप तीन से चार घंटे तक टीवी देखते हैं तो यह संभावना 14 फीसदी तक हो सकती है। इसी तरह प्रति दिन पांच से छह घंटे तक लगातार टीवी देखने से मृत्यु की संभावना 31 फीसदी बढ़ जाती है और 7 घंटे या अधिक समय तक टीवी देखने के लिए बैठे रहने से यह संभावना 61 प्रतिशत तक बढ़ सकती है।
 
इन अप्रिय स्थितियों से कैसे बचें... 
 
इन अप्रिय स्थितियों से बचने के लिए हम क्या कर सकते हैं तो इसका जवाब है कि आप हल्का व्यायाम करके ही बहुत हद होने वाले नुकसान को रोक सकते हैं। 
 
* एक्सरसाइज बॉल या बैकलेस स्टूल पर बैठें। इससे आपके सभी महत्वपूर्ण मांसपेशियां सक्रिय हो जाती हैं। 
* आप दिन में एक बार अपने हिप फ्लेक्सर्स को तीन-तीन मिनट के लिए दोनों ओर रखकर बैठें।
* अगर आप टीवी देख रहे हों या अन्य कोई काम कर रहे हों तो थोड़ी देर के लिए आप चलना शुरू कर दें। भले ही चलने की रफ्तार धीमी हो, लेकिन इससे भी आपकी मांसपेशियां सक्रिय होती हैं।
* आप बार-बार खड़े होने और बैठने का अभ्यास करें।
* आप योग मुद्राओं का अभ्यास कर सकते हैं या फिर अपने शरीर को गाय, बिल्ली जैसी मुद्रा में रखें।

नॉनवेज और अंडे से ज्यादा प्रोटीन देती हैं ये 5 शाकाहारी चीजें

बाल दिवस पर बच्चों के लिए 5 मजेदार चुटकुले

पंडित जवाहरलाल नेहरू की 3 रोचक कहानियां...

चटपटा चुटकुला : जब लड़की टीवी खरीदने गई

गाय की सेवा करेंगे तो धन-संपत्ति के साथ मिलेगा इतना कुछ कि संभाल नहीं पाओगे, पढ़ें 11 शुभ बातें

सम्बंधित जानकारी

डायबिटीज रोगियों के लिए बेहद जरूरी हैं ये 20 टिप्स

डायबिटीज के लिए 10 असरकारी घरेलू नुस्खे...

सावधान, सर्दी में संभल कर करें परफ्यूम का इस्तेमाल, ये रहा कारण

सर्द मौसम में रखेंगे ख्याल, योगासन और प्राणायाम, ये रहे 8 बेहतरीन टिप्स

सर्दियों में ये 5 घरेलू चीजें, त्वचा को प्राकृतिक नमी देंगी और रूखेपन से बचाएंगी

श्री कनकधारा स्तोत्र हिन्दी में : धन, धान्य, सुख-संपदा, यश कीर्ति और ऐश्वर्य सब कुछ देता है यह दिव्य पाठ

जब सोने के आंवले बरसने लगे, आंवला नवमी की यह कथा आपको कहीं नहीं मिलेगी

आंवला नवमी की प्रामाणिक और पारंपरिक कथा : आंवलया राजा और सवा मन आंवले

इम्यून सिस्टम को मजबूत करेंगे ये 9 टिप्स, आज ही अपनाएं

ठंड में बढ़ जाता है आर्थराइटिस का खतरा, जानें 5 जरूरी बातें

अगला लेख