इन 3 तरीकों से कर सकते हैं उपवास, जानिए उपवास के 3 प्रकार

उपवास करना स्वास्थ्य की दृष्ट‍ि से बेहद फायदेमंद होता है। यह हमारी ऊर्जा को संरक्ष‍ित करने के साथ ही शरीर की आंतरिक सफाई और मानसिक स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाता है। आत तौर पर समाज में उपवास करने की 3 पद्ध‍तियां प्रचलित हैं, आप अपनी क्षमता अनुसार इनमें से कोई भी तरीका अपना सकते हैं - 
 
1उपवास करने का पहला तरीका है 8/16 पद्धति। इस पद्धति के अनुसार पूरे दिन का कुल आहार 8 घंटे के अंदर ही लेना होता है और कुल 16 घंटे का उपवास करना करता होता है। उदाहरण के लिए अगर आप रात को 9 बजे दिन का अंतिम भोजन करते हैं, तो आपको अगले दिन दोपहर में ही अगला भोजन लेना होता है। इस प्रकार आप सुबह का नाश्ता नहीं कर सकते। दोपहर 1 बजे से लेकर रात के 9 बजे तक आप जितना आहार लेना चाहें ले सकते हैं। बेहतर स्वासथ्य के लिए आप रोजाना इसे कर सकते हैं, क्योंकि यह सबसे आसान तरीका है उपवास का।

यह भी पढ़ें : उपवास के 5 साइड इफेक्ट और उनके कारण
 
2दूसरा उपवास होता है पूरे 24 घंटे का उपवास, जिसमें आपको पूरे 24 घंटे तक कुछ भी नहीं खाना होता है। उदाहरण के लिए अगर आप आज रात 9 बजे कुछ खाते हैं, तो आप अगले दिन रात को ही कुछ खा सकते हैं, इसके पहले नहीं। इस प्रकार का उपवास सप्ताह में एक या दो बार करना बेहतर होता है।
 
3तीसरा उपवास होता है पूरे 36 घंटों का उपवास, जो थोड़ा कठिन होता है क्योंकि इसमें 36 घंटों तक आपको कुछ भी आहार नहीं लेना होता। हालांकि बीच में तरल पदार्थों या फलों का सेवन कर लिया जाता है।

यह भी पढ़ें : सेंधा नमक है सेहत के लिए सबसे बेहतर, जानें 7 फायदे
 
इस उपवास के अनुसार अगर आज रात को कुछ खा रहे हैं तो अगले दिन भर आपको कुछ भी नहीं खाना होता और एक दिन बाद सुबह ही आप कुछ खा सकते हैं। इस बीच आप 500 से 600 कैलोरी ले सकते हैं। 
 
अगर आप सेहत को ध्यान में रखकर उपवास करते हैं, तो आपको घी-तेल और मसालों का सेवन नहीं करना चाहिए। दूध, दही, फल, जूस आदि का सेवन ही सबसे बेहतर होता है।

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!
LOADING