श्री गणेश जी की आरती- शेंदुर लाल चढ़ायो...

Webdunia
गणेश आरती - 
 
 
शेंदुर लाल चढ़ायो अच्छा गजमुखको।
 
दोंदिल लाल बिराजे सुत गौरिहरको।
 
हाथ लिए गुडलद्दु सांई सुरवरको।
 
महिमा कहे न जाय लागत हूं पादको ॥1॥
 
जय जय श्री गणराज विद्या सुखदाता।
 
धन्य तुम्हारा दर्शन मेरा मन रमता ॥धृ॥
 
अष्टौ सिद्धि दासी संकटको बैरि।
 
विघ्नविनाशन मंगल मूरत अधिकारी।
 
कोटीसूरजप्रकाश ऐबी छबि तेरी।
 
गंडस्थलमदमस्तक झूले शशिबिहारि ॥2॥
 
जय जय श्री गणराज विद्या सुखदाता।
 
धन्य तुम्हारा दर्शन मेरा मन रमता ॥
 
भावभगत से कोई शरणागत आवे।
 
संतत संपत सबही भरपूर पावे।
 
ऐसे तुम महाराज मोको अति भावे।
 
गोसावीनंदन निशिदिन गुन गावे ॥3॥
 
जय जय श्री गणराज विद्या सुखदाता।
 
धन्य तुम्हारा दर्शन मेरा मन रमता ॥ 

आदित्य हृदय स्तोत्र संपूर्ण पाठ

लाभदायक 10 चमत्कारिक पौधे, जानिए कौन से..

वर्ष कुंडली के 5 बड़े योग जो बहुत कम लोग जानते हैं...नाम जानकर चौंक जाएंगे आप

बाल दिवस विशेष : गुम हो रहा है बचपन, आखिर कौन है जिम्मेदार?

शिक्षक दिवस पर प्रेरक कहानी : शब्दों का प्रभाव

सम्बंधित जानकारी

छठी माई पूजा, डाला छठ, सूर्य षष्ठी पूजा, छठ पूजा का पर्व क्यों मनाया जाता है? पढ़ें हर दिन का विशेष महत्व

छठ पूजा 2018 : क्या आप जानते हैं छठ पर्व की यह 8 बातें

ऐसे किया जाता है छठ महापर्व का व्रत, यहां पढ़ें शुभ मुहूर्त, विधि और मंत्र

छठ महापर्व पर बन रहे हैं अत्यंत शुभ योग-संयोग, जानिए नहाय-खाय से लेकर सूर्यार्घ्य तक के शुभ योग

छठ पर्व की 5 पौराणिक मान्यताएं, जो इस व्रत में अनि‍वार्य है

राज राजेश्वर भगवान सहस्त्रबाहु अर्जुन की जयंती

बाबरी विध्वंस के बाद अब तक क्या हुआ अयोध्या मामले में, जानिए

जप की माला में 108 ही दाने क्यों होते हैं? क्या है इस संख्या का राज...

छठ पूजा की पवित्रता को नष्ट होने से बचाता है यह पौराणिक गीत, पढ़ें रोचक गाथा...

आपने नहीं पढ़ी होगी सहस्रबाहु और रावण के युद्ध की यह कथा

अगला लेख