गणेश चतुर्थी के मुहूर्त के साथ यह भी जानिए किस समय बाहर न निकलें, चंद्रमा को भूलकर भी न देखें

Webdunia
हम श्री गणेश उत्सव की तैयारी में यह तो विशेष रूप से याद रखते हैं कि किस समय श्री गणेश की स्थापना करें, यानी गणेश स्थापना और पूजन के शुभ मुहूर्त क्या हैं, लेकिन इसके साथ ही कुछ और भी ध्यान रखना चाहिए।

यानी मुहूर्त के साथ ही एक और विशेष समय का ध्यान रखना चाहिए वह है चंद्र दर्शन से कैसे बचें। 
 
कौन से विशेष समय घर से बाहर झांकने से बचें ताकि चंद्र का दर्शन न हो। चतुर्थी के चंद्र जीवन में कलंक लगा सकते हैं। भगवान श्री कृष्ण भी इससे नहीं बच सके। उन्हें भी स्यमंतक मणि चुराने का कलंक लग चुका है। 
 
यहां प्रस्तुत हैं श्री गणेश स्थापना के शुभ मुहूर्त के साथ वह समय भी जब आपको आकाश में उदित चंद्रमा को देखने से बचना है। 
 
इस बार गणेश चतुर्थी वाले दिन बड़े शुभ संयोग बन रहे हैं। इस साल गणेश चतुर्थी का यह पर्व 13 सिंतबर से शुरू होकर 23 सितंबर तक चलेगा।
 
गणेश चतुर्थी पूजा का शुभ मुहूर्त
 
गणेश चतुर्थी 13 सितंबर 2018, गुरुवार को है।
 
23 सितंबर 2018, रविवार को अनंत चतुर्दशी है जिस दिन गणेश विसर्जन होगा।
 
मध्याह्न काल में गणेश पूजन का सर्वश्रेष्ठ समय :  11:03 से 13:30 तक।
 
 
तीज और गणेश चतुर्थी पर इस समय चंद्र देखने से बचें 
 
12 सितंबर 2018, बुधवार को चंद्र नहीं देखने का समय = 16:07 से 20:33 बजे तक।
 
13 सितंबर 2018, गुरुवार को चंद्र नहीं देखने का समय = 09:31 से 21:12 बजे तक।
 
 चतुर्थी तिथि आरंभ : 12 सितंबर 2018, बुधवार 16:07 बजे।
 
चतुर्थी तिथि समाप्त : 13 सितंबर 2018, गुरुवार 14:51 बजे।

श्री हनुमान चालीसा

किसने और क्यों श्रीकृष्ण को दिया था सुदर्शन चक्र, जानिए रहस्य...

चार वेद, जानिए किस वेद में क्या है...

पंचतंत्र की कहानी : बगुला भगत

बुरी आदत से छुटकारा पाने और वजन कम करने कपिल शर्मा पहुंचे आयुर्वेदिक आश्रम

सम्बंधित जानकारी

यमराज की मृत्यु का रहस्य जानकर चौंक जाएंगे आप

कौन हैं हमारे दिव्य पितर, जानिए रहस्य

शरीर छोड़ने के बाद आत्मा कहां पहुंच जाती है, जानिए रहस्य

नियम से करेंगे ये 12 काम, तो आप बन सकते हैं धनवान...

अपने ऑफिस को बनाएं शुभ और सकारात्मक, जानिए ज्योतिष के उपाय ...

कैसे मिलता है पितरों को भोजन, साथ में जानिए श्राद्ध करने से मिलते हैं कौन से 6 लाभ

क्या है श्राद्ध का अर्थ, परिचय, तिथियां और विधि

क्षमावाणी विशेष : आत्मशुद्धि, मैत्री और क्षमा भाव का पावन पर्व

जैन धर्म के साथ-साथ अन्य कई धर्मों में भी है क्षमा का महत्व

24 सितंबर 2018 का राशिफल और उपाय...

अगला लेख