श्री गणेश महोत्सव की शुरुआत कब, कैसे और कहां हुई, जानिए इतिहास

आचार्य राजेश कुमार
गणेश चतुर्थी के पर्व पर पूजा प्रारंभ होने की सही तारीख किसी को ज्ञात नहीं है, हालांकि इतिहास के अनुसार, यह अनुमान लगाया गया है कि गणेश चतुर्थी 1630-1680 के दौरान छत्रपति शिवाजी (मराठा साम्राज्य के संस्थापक) के समय में एक सार्वजनिक समारोह के रूप में मनाया जाता था। शिवाजी के समय, यह गणेशोत्सव उनके साम्राज्य के कुलदेवता के रूप में नियमित रूप से मनाना शुरू किया गया था।

पेशवाओं के अंत के बाद, यह एक पारिवारिक उत्सव बना रहा, यह 1893 में बाल गंगाधर लोकमान्य तिलक (एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक) द्वारा पुनर्जीवित किया गया।
 
गणेश चतुर्थी एक बड़ी तैयारी के साथ एक वार्षिक घरेलू त्योहार के रूप में हिंदू लोगों द्वारा मनाना शुरू किया गया था। सामान्यतः यह ब्राह्मणों और गैर ब्राह्मणों के बीच संघर्ष को हटाने के साथ ही लोगों के बीच एकता लाने के लिए एक राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाना आरंभ किया गया था।

महाराष्ट्र में लोगों ने ब्रिटिश शासन के दौरान बहुत साहस और राष्ट्रवादी उत्साह के साथ अंग्रेजों के क्रूर व्यवहार से 
मुक्त होने के लिए मनाना शुरु किया था। गणेश विसर्जन की रस्म बाल  गंगाधर लोकमान्य तिलक द्वारा स्थापित की गई थी।
 
धीरे-धीरे लोगों द्वारा यह उत्सव परिवार के समारोह के बजाय समुदाय की भागीदारी के माध्यम से मनाना शुरू किया गया। समाज और समुदाय के लोग इस पर्व को एक साथ सामुदायिक त्योहार के रुप में मनाने के लिए बौद्धिक भाषण, कविता, नृत्य, भक्ति गीत, नाटक, संगीत समारोहों, लोक नृत्य करना, आदि क्रियाओं को सामूहिक रुप से करते हैं। लोग तारीख से पहले एक साथ मिलते हैं और उत्सव मनाने के साथ ही साथ यह भी तय करते है कि इतनी बड़ी भीड़ को कैसे नियंत्रित करना है।
 
 हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, यह माना जाता है कि गणेश जी का जन्म माघ माह में चतुर्थी (उज्ज्वल पखवाड़े के चौथे दिन) हुआ था। तब से, भगवान गणेश के जन्म की तारीख गणेश चतुर्थी के रूप में मनानी शुरू की गई। आजकल, यह त्योहार हिंदू एवं बहुत से अन्य समुदाय के लोगों द्वारा पूरी दुनिया में मनाया जाता है।

ALSO READ: श्री गणेश की स्थापना कैसे करें, शुभ मुहूर्त और 10 काम की बातें...

ALSO READ: जब घर में हो विराजित श्री गणेश तो यह 15 काम बिलकुल न करें वरना...

14 जनवरी को मकर संक्रांति, क्या जीवन में लाएगी शांति, पढ़ें 12 राशियां

बहुत कम हिन्दू जानते हैं महाभारत के योद्धाओं के ये 7 गुप्त रहस्य

बहुत पवित्र होता है पूजा का सिंदूर, यह 11 उपाय करेंगे हर संकट को दूर

बगैर तकिया लगाए सोना है फायदेमंद, ये रहे 5 फायदे

देवउठनी एकादशी पर मां तुलसी का महत्व पढ़कर श्रद्धा से भर उठेंगे आप

सम्बंधित जानकारी

मौली क्या है, क्यों है इसका इतना धार्मिक महत्व, पढ़ें खास बातें...

लाल किताब अनुसार शनि के अशुभ होने की निशानी

आपने नहीं पढ़ी होगी सहस्रबाहु और रावण के युद्ध की यह कथा

यह 30 बातें जो हर पूजा-पाठ करने वाले व्यक्ति को पता होना चाहिए....वरना...

हमेशा ध्यान में रखें चाणक्य नीति की ये 10 विशेष बातें...

400 साल तक बर्फ में दबे रहे केदारेश्‍वर मंदिर के 6 रहस्य

जब मां लक्ष्मी ने भगवान विष्णु और शिव जी को एक साथ कराया भोजन, पढ़ें आंवला नवमी क्यों है खास

जब भगवान विष्णु ने एक सुंदरी का रूप धारण कर ली परीक्षा, पढ़ें एकादशी की अनूठी कथा...

एकादशी का करते हैं उपवास तो इन 20 बातों का रखें ध्यान

सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य का संक्षिप्त परिचय

अगला लेख