श्री गणेश महोत्सव की शुरुआत कब, कैसे और कहां हुई, जानिए इतिहास

आचार्य राजेश कुमार
गणेश चतुर्थी के पर्व पर पूजा प्रारंभ होने की सही तारीख किसी को ज्ञात नहीं है, हालांकि इतिहास के अनुसार, यह अनुमान लगाया गया है कि गणेश चतुर्थी 1630-1680 के दौरान छत्रपति शिवाजी (मराठा साम्राज्य के संस्थापक) के समय में एक सार्वजनिक समारोह के रूप में मनाया जाता था। शिवाजी के समय, यह गणेशोत्सव उनके साम्राज्य के कुलदेवता के रूप में नियमित रूप से मनाना शुरू किया गया था।

पेशवाओं के अंत के बाद, यह एक पारिवारिक उत्सव बना रहा, यह 1893 में बाल गंगाधर लोकमान्य तिलक (एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक) द्वारा पुनर्जीवित किया गया।
 
गणेश चतुर्थी एक बड़ी तैयारी के साथ एक वार्षिक घरेलू त्योहार के रूप में हिंदू लोगों द्वारा मनाना शुरू किया गया था। सामान्यतः यह ब्राह्मणों और गैर ब्राह्मणों के बीच संघर्ष को हटाने के साथ ही लोगों के बीच एकता लाने के लिए एक राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाना आरंभ किया गया था।

महाराष्ट्र में लोगों ने ब्रिटिश शासन के दौरान बहुत साहस और राष्ट्रवादी उत्साह के साथ अंग्रेजों के क्रूर व्यवहार से 
मुक्त होने के लिए मनाना शुरु किया था। गणेश विसर्जन की रस्म बाल  गंगाधर लोकमान्य तिलक द्वारा स्थापित की गई थी।
 
धीरे-धीरे लोगों द्वारा यह उत्सव परिवार के समारोह के बजाय समुदाय की भागीदारी के माध्यम से मनाना शुरू किया गया। समाज और समुदाय के लोग इस पर्व को एक साथ सामुदायिक त्योहार के रुप में मनाने के लिए बौद्धिक भाषण, कविता, नृत्य, भक्ति गीत, नाटक, संगीत समारोहों, लोक नृत्य करना, आदि क्रियाओं को सामूहिक रुप से करते हैं। लोग तारीख से पहले एक साथ मिलते हैं और उत्सव मनाने के साथ ही साथ यह भी तय करते है कि इतनी बड़ी भीड़ को कैसे नियंत्रित करना है।
 
 हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, यह माना जाता है कि गणेश जी का जन्म माघ माह में चतुर्थी (उज्ज्वल पखवाड़े के चौथे दिन) हुआ था। तब से, भगवान गणेश के जन्म की तारीख गणेश चतुर्थी के रूप में मनानी शुरू की गई। आजकल, यह त्योहार हिंदू एवं बहुत से अन्य समुदाय के लोगों द्वारा पूरी दुनिया में मनाया जाता है।

ALSO READ: श्री गणेश की स्थापना कैसे करें, शुभ मुहूर्त और 10 काम की बातें...

ALSO READ: जब घर में हो विराजित श्री गणेश तो यह 15 काम बिलकुल न करें वरना...

कर्ज से मुक्ति चाह‍ते हैं तो यह 3 अचूक उपाय आपके लिए हैं....

शनिवार के दिन यह 3 दिख जाएं तो समझो किस्मत चमकने वाली है ...

आदित्य हृदय स्तोत्र संपूर्ण पाठ

अभिनेत्री रेखा की जिंदगी में आए ये पुरुष

ओले और पाले ने मालवा के किसानों की कमर तोड़ी, फसल बर्बाद

सम्बंधित जानकारी

प्रयागराज कुंभ में स्नान के लिए बनी स्पेशल वॉटरप्रूफ साड़ी, डुबकी लगाने पर भी नहीं होगी गीली...

नंदी ने दिया था रावण को ये श्राप, इसलिए हो गया उसका सर्वनाश

5 देवता देते हैं प्यार का वरदान, इनकी पूजा कर बनाएं शादी की राह आसान

मूलांक से जानिए क्या कहते हैं आपके प्यार के सितारे...

24 असरकारी टोटके सच्चा प्यार पाने के लिए, आप भी अवश्य पढ़ें...

बहुत लाभदायी है भगवान विश्वकर्मा के 108 नामों का पाठ

17 फरवरी को विश्वकर्मा जयंती, पढ़ें महत्व, मंत्र-पूजन विधि एवं कथा

दुर्योधन को मिला था ये भयंकर श्राप, इसीलिए वह मारा गया

आप नहीं जान‍ते होंगे कुत्ते से जुड़े ये 8 शकुन-अपशकुन, जानिए खास बातें...

फाल्गुन माह का पाक्षिक-पंचांग : 27 फरवरी को रामदास नवमी, 4 मार्च को महाशिवरात्रि

अगला लेख