स्मृति आदित्य

जब भी मकर संक्रांति आती है मुझे याद आती है अपने मम्मी पापा की। तब मैं बहुत छोटा था। मेरे पंख बहुत नाजुक थे। मैं उड़ भी...
आशा और विश्वास की पतंग, आकांक्षा और संकल्प की पतंग तथा प्रेम और स्वप्न की भावुक पतंग हर युग के हर मानव ने उड़ाई है, उड़ा...
नर्म नाजुक शब्दों से सजे न जाने कितने ऐसे गीत हैं जिनसे कैफी आजमी की सौंधी महक आती है। संजीदा और सलीकेदार शायरी में मधुर...
अचानक पता चलता है इसी स्कूल में बैठे हैं उसके फूलों को कुचल देने वाले, मसल देने वाले... कहीं रेयान के 'प्रद्युम्न' की तरह...
हम याद कर रहे हैं उन प्रमुख दिग्गजों को जिनके जीवन का सफर 2017 में आकर थम गया.... और 2018 में हमें उनके बिना ही प्रवेश करना है......
2017 में यूं तो हर क्षेत्र में नारी ने उपलब्धियों के परचम लहराए हैं लेकिन हम बात कर रहे हैं एक ऐसी शख्सियत की जिनकी खास अदा...
आइए जायजा लेते हैं भारतीय लेखकों की उन 10 ऐसी किताबों का जो 2017 में NRI बाजार में सबसे ज्यादा तलाशी गई... सबसे ज्यादा पढ़ी और...
मैं आपका अपना सांता आज पत्र लिख रहा हूं उन सारे जिम्मेदार और जहीन लोगों के नाम जो मुझसे अब तक सिर्फ और सिर्फ अपने लिए...
शिक्षा और साहित्य का पद्मश्री अलंकरण प्राप्त करने वाली सुनीता जैन नहीं रहीं। जब वे इंदौर आई थीं तब यूं ही चलते-चलते...
अयोध्या नहीं श्री अयोध्या जी कहिए। यही कहना है हर अयोध्यावासी का..... एक नगरी जिस पर सदियों पहले हमारे आराध्य देव प्रभु...
LOADING