प्रीति सोनी

प्राकृतिक आपदाएं चेहरा, धर्म, स्थिति-परिस्थितियों को नहीं देखती...बस कहर बनकर बरसती हैं और छीन ले जाती है चैन, सुकून, खुशियां,...
ऐसा चरित्र जब आंखों के सामने से होकर गुजरता है, तो यह सवाल मन में आना स्वभाविक है कि आखिर ऐसा क्या था इस शख्स में, क्या...
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की मृत्यु को लेकर भी कुछ इसी तरह की भविष्यवाणी की गई थी। और यह भविष्यवाणी बिल्कुल...
जब भी आप ज्योतिष की बात करते हैं या किसी ज्योतिष के पास जाते हैं, आपको एक शब्द जरूर सुनने को मिलता है, लग्न, लग्न पत्रिका...
अब तक ये कयास लगाए जा रहे थे कि मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के विधानसभा चुनाव साल के अंत यानि दिसंबर 2018 तक संपन्न...
ज्योतिष में जन्मपत्रिका, बारह राशियों एवं नौ ग्रहों का विशेष महत्व है. .. ये नौ ग्रह अपने-अपने स्वभाग के अनुसार ही फल प्रदान...
जिस तरह से संसार में दो ही चीजें दृश्य हैं, प्रकाश और अंधकार। उसी तरह श्रव्य भी दो ही चीजें हैं - शोर या शांति ...और ये दोनों...
शायद कभी आपके मन में यह सवाल भी आया हो कि आखिर क्या है ये जन्म पत्रिका जिसे जन्म कुंडली भी कहते हैं? और कैसे इस पत्रिका...
हाँ भिया, तुम मानो या नी मानो....बिलकुल सई बात है ....अपना इंदौर अपना इंदौर है, भोपाल में वो बात नहीं ...फिर चाहे पोहे जलेबी...
ज्योतिष में विश्वास करना या न करना आपकी उसके प्रति धारणा पर आधारित है,परन्तु हमारी धारणाओं से ऊपर भी एक सत्य है जो हमारी...
वर्तमान में योग को शारीरिक, मानसिक व आत्मिक स्वास्थ्य व शांति के लिए बड़े पैमाने पर अपनाया जाता है। 11 दिसंबर 2014 को संयुक्त...
8 साल की आसिफा के साथ हुई रेप की ये घटना एक बार फिर झिंझोड़कर रख देती है और न केवल के सवाल उठाती है, बल्कि उस सभ्य समाज को...
प्रेम कहानी शब्द भले ही किसी परी कथा सा लगता है, लेकिन इसके किरदारों ने अपने इश्क को मुकम्मल बनाने के लिए न जाने कितनी...
खुशनुमा जिंदगी में कभी-कभी ऐसा दौर भी आता है, जब हवा का एक झोंका रेत की तरह सपनों और खुशियों से सजे लम्हों को कोसों दूर...
ख्वाब और महत्वाकांक्षाएं भले ही कुछ समय परिस्थतियों के चलते दबकर या बंधकर जाएं...लेकिन दृढ़ संकल्प और साहस का साथ हो,...
जब उड़ने की हो ख्वाहिशें, हौंसलों के पर खुद ब खुद निकल आते हैं, अपनों का हो साथ, तो आप खुद को आसमान में पाते हैं
महिषासुर मर्दिनी स्तोत्र...भले ही संहार से जुड़ा हो, लेकिन मन में एक आनंद, सकारात्मकता और शांति को जन्म देता है। आखिर...
बचपन से लेकर आज तक पूरे साल इस दिन का मुझे बेसब्री से इंतजार रहता है। पितृ पक्ष की अष्टमी को आने वाला गजलक्ष्मी व्रत...
जितनी बार उस बच्चे की मासूम सूरत टीवी पर देखी, कुछ और नहीं सिर्फ यही सवाल मन में रहा...कि कौन होगा वह अमानवीय पाषाण जिसका...
बचपन की यादें, जिंदगी में कभी भी नहीं भुलाई जा सकती। उन दिनों हमारे कोमल मन पर, हर अच्छी और बुरी बातों का बहुत गहराई तक...
LOADING