श्रावण शुक्ल पक्ष का पाक्षिक पंचांग, पढ़ें आगामी त्योहार और कौन से ग्रह करेंगे राशि परिवर्तन

'वेबदुनिया' के पाठकों के लिए 'पाक्षिक पंचांग' की श्रृंखला में प्रस्तुत है श्रावण शुक्ल पक्ष का पाक्षिक पंचांग। 
 
'पाक्षिक-पंचांग' : श्रावण शुक्ल पक्ष
 
संवत्सर- विरोधकृत 
संवत्- 2075 शक संवत् :1940
माह-श्रावण
पक्ष-शुक्ल पक्ष (12 अगस्त से 26 अगस्त)
ऋतु: वर्षा
रवि: दक्षिणायने
गुरु तारा- उदित स्वरूप
शुक्र तारा- उदित स्वरूप
सर्वार्थ सिद्धि योग- 6 अगस्त, 9 अगस्त, 15 अगस्त, 24 अगस्त, 25 अगस्त
अमृतसिद्धि योग- अनुपस्थित                                                             
द्विपुष्कर योग- अनुपस्थित
त्रिपुष्कर योग- अनुपस्थित
रविपुष्य योग- अनुपस्थित
गुरुपुष्य योग- अनुपस्थित
एकादशी- 22 अगस्त (पवित्रा एकादशी व्रत)
प्रदोष- 23 अगस्त 
भद्रा- 14 अगस्त (उदय)-15 अगस्त (अस्त), 17 अगस्त (उदय)-18 अगस्त (अस्त), 21 अगस्त (उदय)- 22 अगस्त (अस्त), 25 अगस्त (उदय-अस्त) 
पंचक- 25 अगस्त (रात्रि 11 बजकर 29 मिनिट) से प्रारम्भ-30 अगस्त (रात्रि 6 बजकर 48 मिनिट) पर समाप्त
मूल- 19 अगस्त (रात्रि 10 बजकर 53 मिनिट से प्रारम्भ- 21 अगस्त (मध्य रात्रि 2 बजकर 39 मिनिट पर समाप्त)
पूर्णिमा- 26 अगस्त (श्रावणी उपाकर्म/रक्षाबन्धन)
ग्रहाचार: सूर्य-कर्क राशि में (दिनांक 17 से सिंह राशि में), चन्द्र-(सवा दो दिन में राशि परिवर्तन करते हैं), मंगल-मकर, बुध-कर्क राशि में, गुरु-तुला, शुक्र-कन्या राशि में, शनि-धनु, राहु-कर्क, केतु-मकर
व्रत/त्योहार: 13 अगस्त-हरियाली तीज (झूला तीज), 15 अगस्त-(नागपंचमी/स्वतंत्रता दिवस), 17 अगस्त- श्रीतुलसीदास जयंती, 26 अगस्त- रक्षाबन्धन/श्रावणी उपाकर्म। 
 
- ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया 
प्रारब्ध ज्योतिष परामर्श केन्द्र 
सम्पर्क: astropoint_hbd@yahoo.com
 
ALSO READ: पूरे श्रावण मास में मन के शिवतत्व को करें जागृत, अतिरिक्त ऐश्वर्य चाहिए तो जानिए शिव पूजा का महत्व

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING